Friday, 22 December 2017

ये तो राम रहीम से भी तगड़ा बाबा निकला, 16000 लड़कियों से संबंध बनाने की थी योजना, पकड़ा गया



नई दिल्ली : बलात्कारी बाबा राम रहीम के बाद एक और बाबा सुर्खियों में आ गया है। खबर है कि ये बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित रोहणी के विजय विहार इलाके में अपना आध्यात्मिक विश्वविद्यालय चलाता है। हैरानी की बात ये बाबा खुद को भगवान कृष्ष का अवतार बताता और 16000 महिलाओं के साथ संबंध बनाने की इच्छा जाहिर की है। इस आश्रम में ज्यादा महिला शिष्यों को ही पसंद करता है।

ये मामला उस वक्त सामने आया जब एक परिवार सामने आया और कहा कि वीरेंद्र देव दीक्षित के आश्रम में उनके परिवार के सदस्य हैं और लगभग 6-7 साल से उनसे मिलने नहीं दिया जा रहा। मामला हाईकोर्ट पहुंचा तो कोर्ट के निर्देश पर आश्रम की छानबीन की गई जिसमें बाबा की काली करतूतों का खुलासा हुआ।

साथ ही पुलिस को कई वीडियो भी हाथ लगे हैं। बता दें इस मामले को एक एनजीओ ने उठाया था अपनी याचिका में लिखा इस बाबा का मामला भी राम रहीम जैसा हो सकता है। इसके बाद कोर्ट ने निर्देश दिए और कार्रवाई शुरू हुई। पुलिस ने आश्रम से कई लड़कियों को सुरक्षित निकालते हुए दो लोगों को हिरासत में लिया है।

तलाशी में बाबा के अश्लील वीडियो-किताबें, जोशवर्धक दवाओं सहित कई आपत्तिजनक सामान मिले थे। वीडियो में सामने आया कि वीरेंद्र खुद को कृष्ण बताता और गोपियां बनाने के लिए अनुयायी लड़कियों को संबंध बनाने के लिए आकर्षित करता था।

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति जयहिंद ने बताया कि महिलाओं को नशे के दवा दी जाती थीं। चार मंजिला आश्रम के अंदर बोर्ड पर लिखा था, ‘आपसे कोई पूछे कैसे हो तो बताना-ठीक हैं और खुश हैं। रात में लड़कियां यहां से आती-जाती हैं। यहां देह व्यापार चलता है।

आश्रम के आसपास रहने वाले लोगों का कहना है कि आधी रात के बाद पंजाब व दूसरे राज्यों की बड़ी गाड़ियां आती थीं और नाबालिग लड़कियों को ले जाती थीं। कोर्ट ने इसे गंभीर बताते हुए मंगलवार को महिला आयोग से जांच का आदेश दिया था. कार्रवाई के बाद टीम ने बुधवार को हाईकोर्ट को रिपोर्ट सौंपी। कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर ने कहा कि इस मामले की सीबीआई जांच होनी चाहिए।  कोर्ट ने सीबीआई को आश्रम में छापा मारने के निर्देश दिए हैं।

वहीं इस मामले के बाहर आते ही कई परिजन अपने परिवार वालों से मिलने आश्रम पहुंच रहे हैं। महिला आयोग ने आश्रम में मौजूद महिलाओं-लड़कियों की मेडिकल जांच के निर्देश दिए है। वहीं सीबीआई एक्शन लेने के लिए एक टीम के गठन में जुट गई है।


गौरतलब है कि स्थानीय लोगों और परिजनों द्वारा इस आश्रम को लेकर कई शिकायतें दर्ज करवाई गई थी लेकिन पुलिस ने अपनी लापरवाही परिचय देते हुए कोई केस दर्ज नहीं किया। एनजीओ द्वारा याचिका लगाई जाने पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटकार लगाई। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस आश्रम को बने 20 साल से अधिक समय हो गया है और तब से इसके खिलाफ शिकायतें आना शुरू हो गई थी। वीरेंद्र दीक्षित पर दिल्ली के अलावा यूपी के फर्रुखाबाद में भी 1998 में एफआईआर दर्ज हुई थी। हाईकोर्ट के बाहर एक महिला ने बताया कि वह खुद आश्रम में थी और उससे दुष्कर्म हुआ।
loading...

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

0 comments :

Propller Push

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.