Tuesday, 8 August 2017

फारुख अब्दुल्ला बोले - धारा 35ए से छेड़खानी हुई तो होगा जन आंदोलन!

नई दिल्ली : नैशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 35ए को निरस्त किए जाने पर 'जनविद्रोह' की स्थिति पैदा हो जाएगी। विपक्षी नेताओं के साथ बैठक के बाद अपने आवास पर फारूक ने कहा, 'जब इस फैसले की नौबत आएगी, तो आप व्यापक जनविद्रोह देखेंगे।



फारूक ने कहा, 'मत भूलिए कि जब 2008 में अमरनाथ भूमि मामला सामने आया था, तो लोग रातों रात उठ खड़े हुए थे। फारूक ने कहा, अनुच्छेद 35ए को रद्द किए जाने का नतीजा और बड़े विद्रोह की वजह बनेगा। मुझे नहीं पता कि सरकार इसे कैसे रोक सकेगी।'

फारूक ने आरोप लगाते हुए कहा, 'भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) का अजेंडा जम्मू-कश्मीर की स्वायत्त संरचना को खत्म करना है। फारूक के मुताबिक, राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि अनुच्छेद 35ए को यदि हटाया जाता है तो वह अपना पद छोड़ देंगी। मुझे उम्मीद है कि वह अपनी बात पर कायम रहेंगी।'

अनुच्छेद 35ए का जिक्र करते हुए फारूक ने कहा कि इससे राज्य के लोगों चाहे वे जम्मू के हों, कश्मीर के हों अथवा लद्दाख के हों-इन सबकी सुरक्षा सुनिश्चित होती है। महाराज के समय में ही राज्य की संस्कृति को बाहरी लोगों से बचाने के लिए इसका प्रावधान किया गया।

फारूक की ओर से बुलाई गई बैठक में कांग्रेस व अन्य दलों ने शिरकत की। यह धारा 35ए को निरस्त किए जाने की स्थिति में होने वाले असर पर विचार के लिए बुलाई गई थी। संविधान का अनुच्छेद 35ए जम्मू-कश्मीर विधानसभा को राज्य में स्थायी निवास और विशेषाधिकारों को तय करने का अधिकार देता है।


यह आर्टिकल 1954 में प्रेजिडेंशल ऑर्डर के जरिए अमल में आया था। एक गैर सरकारी संगठन ने सर्वोच्च न्यायालय में इसे चुनौती दी है। इस आर्टिकल को निरस्त करने की मांग करने वालों का कहना है कि धारा 368 के तहत संविधान संशोधन के लिए नियत प्रक्रिया का पालन करते हुए इसे संविधान में नहीं जोड़ा गया था। 
loading...
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

0 comments :

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.