Saturday, 21 January 2017

जलीकट्टू को केंद्र ने दी स्वीकृति, PM बोले - तमिल की संस्कृति पर गर्व है!

नई दिल्ली : केंद्र द्वारा जल्लीकट्टू अध्यादेश को मंजूरी दिए जाने के एक दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि तमिलनाडु की जनता की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। 

Image Source - indianexpress

मोदी ने ट्वीट किया कि तमिलनाडु की समृद्ध संस्कृति पर हमें गर्व है। तमिल लोगों की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार तमिलनाडु की प्रगति के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और राज्य को नई उंचाइयों तक पहुंचाने के लिए काम करती रहेगी। 

जल्लीकट्टू के आयोजन की इजाजत देने के लिए केंद्र ने तत्परता दिखाते हुए अध्यादेश के मसौदे को मंजूरी दी जिसके एक ही दिन बाद यह वक्तव्य आया है।

इसके साथ ही राज्य में बीते पांच दिनों से चले आ रहे व्यापक विरोध प्रदर्शनों को खत्म करने की दिशा में आगे बढ़ते हुए तमिलनाडु के लिए इस अध्यादेश को लागू करने का रास्ता साफ हो गया। केंद्रीय गृह मंत्रालय, कानून मंत्रालय और पर्यावरण मंत्रालय ने अध्यादेश को कल रात ही मंजूरी दे दी। 


तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम ने दो दिन पहले मोदी से मुलाकात कर उनसे अध्यादेश को मंजूरी देने का अनुरोध किया था।

नई दिल्ली : केंद्र द्वारा जल्लीकट्टू अध्यादेश को मंजूरी दिए जाने के एक दिन बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि तमिलनाडु की जनता की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। 

Image Source - indianexpress

मोदी ने ट्वीट किया कि तमिलनाडु की समृद्ध संस्कृति पर हमें गर्व है। तमिल लोगों की सांस्कृतिक आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।

मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार तमिलनाडु की प्रगति के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है और राज्य को नई उंचाइयों तक पहुंचाने के लिए काम करती रहेगी। 

जल्लीकट्टू के आयोजन की इजाजत देने के लिए केंद्र ने तत्परता दिखाते हुए अध्यादेश के मसौदे को मंजूरी दी जिसके एक ही दिन बाद यह वक्तव्य आया है।

इसके साथ ही राज्य में बीते पांच दिनों से चले आ रहे व्यापक विरोध प्रदर्शनों को खत्म करने की दिशा में आगे बढ़ते हुए तमिलनाडु के लिए इस अध्यादेश को लागू करने का रास्ता साफ हो गया। केंद्रीय गृह मंत्रालय, कानून मंत्रालय और पर्यावरण मंत्रालय ने अध्यादेश को कल रात ही मंजूरी दे दी। 


तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ओ. पनीरसेल्वम ने दो दिन पहले मोदी से मुलाकात कर उनसे अध्यादेश को मंजूरी देने का अनुरोध किया था।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Friday, 20 January 2017

ओवैसी बोले - हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है जलीकट्टू पर प्रदर्शन!

नई दिल्ली : जलीकट्टू पर सुप्रीम कोर्ट के बैन के खिलाफ तमिलनाडु में चल रहे प्रदर्शनों के बीच हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने यूनिफॉर्म सिविल कोड का मुद्दा उठा दिया है।

Image Source - PTI

उन्होंने जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शनों को हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक बताया है। ओवैसी ने ट्वीट करके कहा, 'जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शन हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है। यूनिफॉर्म सिविल कोड को इस देश पर थोपा नहीं जा सकता क्योंकि यहां सिर्फ एक संस्कृति नहीं है। हम सभी का जश्न मनाते हैं।'

वहीँ ओवैसी के बयान पर जेडीयू सांसद और प्रवक्ता केसी त्यागी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।  त्यागी ने कहा कि ओवैसी मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं।

त्यागी ने कहा, 'हम उनके बयान और राजनीति से सहमत नहीं हैं। एक तरफ वह अल्पसंख्यकों का मामला उठा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जलीकट्टू के मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं।'

त्यागी ने आरोप लगाया कि ओवैसी अपनी राजनीति से बीजेपी को फायदा पहुंचा रहे हैं और इसी मंसूबे की वजह से वह बिहार भी आए थे। त्यागी ने यह भी कहा कि वह ओवैसी के बयान को कोई तवज्जो नहीं देते।

आपको बता दें कि जलीकट्टू पर पूरे तमिलनाडु में हो रहे उग्र प्रदर्शन के बाद राज्य सरकार इस मामले पर ऑर्डिनेंस लाने जा रही है। सीएम पन्नीरसेल्वम ने अपील की है कि प्रदर्शनकारी शांत हो जाएं।


सीएम ने गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की थी। पीएम ने इस मुद्दे पर राज्य सरकार को सहयोग देने का आश्वासन तो दिया, लेकिन ऑर्डिनेंस लाने से इनकार कर दिया। पीएम ने दलील दी कि यह मामला कोर्ट में विचाराधीन है, इसलिए ऑर्डिनेंस नहीं लाया जा सकता।

नई दिल्ली : जलीकट्टू पर सुप्रीम कोर्ट के बैन के खिलाफ तमिलनाडु में चल रहे प्रदर्शनों के बीच हैदराबाद के सांसद और एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने यूनिफॉर्म सिविल कोड का मुद्दा उठा दिया है।

Image Source - PTI

उन्होंने जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शनों को हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक बताया है। ओवैसी ने ट्वीट करके कहा, 'जलीकट्टू पर हो रहे प्रदर्शन हिंदुत्ववादी ताकतों के लिए सबक है। यूनिफॉर्म सिविल कोड को इस देश पर थोपा नहीं जा सकता क्योंकि यहां सिर्फ एक संस्कृति नहीं है। हम सभी का जश्न मनाते हैं।'

वहीँ ओवैसी के बयान पर जेडीयू सांसद और प्रवक्ता केसी त्यागी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है।  त्यागी ने कहा कि ओवैसी मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं।

त्यागी ने कहा, 'हम उनके बयान और राजनीति से सहमत नहीं हैं। एक तरफ वह अल्पसंख्यकों का मामला उठा रहे हैं, वहीं दूसरी ओर जलीकट्टू के मामले को सांप्रदायिक रंग दे रहे हैं।'

त्यागी ने आरोप लगाया कि ओवैसी अपनी राजनीति से बीजेपी को फायदा पहुंचा रहे हैं और इसी मंसूबे की वजह से वह बिहार भी आए थे। त्यागी ने यह भी कहा कि वह ओवैसी के बयान को कोई तवज्जो नहीं देते।

आपको बता दें कि जलीकट्टू पर पूरे तमिलनाडु में हो रहे उग्र प्रदर्शन के बाद राज्य सरकार इस मामले पर ऑर्डिनेंस लाने जा रही है। सीएम पन्नीरसेल्वम ने अपील की है कि प्रदर्शनकारी शांत हो जाएं।


सीएम ने गुरुवार को पीएम नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की थी। पीएम ने इस मुद्दे पर राज्य सरकार को सहयोग देने का आश्वासन तो दिया, लेकिन ऑर्डिनेंस लाने से इनकार कर दिया। पीएम ने दलील दी कि यह मामला कोर्ट में विचाराधीन है, इसलिए ऑर्डिनेंस नहीं लाया जा सकता।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

ओबामा के जाने पर PM मोदी के सिर सज गया यह ताज!

नई दिल्ली : बराक ओबामा का कार्यकाल समाप्त होने और डोनाल्ड ट्रंप के शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया भर में सोशल मीडिया पर सबसे अधिक फॉलोअर वाले नेता बन गए हैं।

Image Source - politico

प्रधानमंत्री कार्यालय के सूत्रों के मुताबिक मोदी फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और गूगल प्लस पर सबसे अधिक फॉलोअर वाले राष्ट्राध्यक्ष बन गए हैं।

ट्विटर पर मोदी को 2.65 करोड़, फेसबुक पर 3.92 करोड़, गूगल प्लस पर 32 लाख, लिंक्डइन पर 19.9 लाख, इंस्टाग्राम पर 58 लाख और यूट्यूब पर 5.91 लाख लोग फॉलो करते हैं। उनके मोबाइल एप को भी एक करोड़ बार डाउनलोड किया गया है और इस लिहाज से भी वह शीर्ष पर हैं।


अब पीएम खुद सोशल मीडिया के इस्तेमाल से जनता से लगातार जुडते जा रहे हैं। यहां तक कि गवर्नेंस भी डिजिटल होने से सरकारी कामकाज में भी तेजी आई है। 

जब पीएम सीधा जनता से संवाद कर रहे हों, वो भी 140 शब्दों के ट्वीट से, कैंपेन के नए-नए तरीके इजाद कर के। पीएम मोदी ने #संदेशटूसोल्जर, #माईक्लीनइंडिया, #इंक्रैडिबल इंडिया, #सेल्फीविदडॉटर सरीखे कैंपेन चलाएं जिसे ना सिर्फ देश बल्कि दुनिया में भी तारीफ मिली।

नई दिल्ली : बराक ओबामा का कार्यकाल समाप्त होने और डोनाल्ड ट्रंप के शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया भर में सोशल मीडिया पर सबसे अधिक फॉलोअर वाले नेता बन गए हैं।

Image Source - politico

प्रधानमंत्री कार्यालय के सूत्रों के मुताबिक मोदी फेसबुक, ट्विटर, यूट्यूब और गूगल प्लस पर सबसे अधिक फॉलोअर वाले राष्ट्राध्यक्ष बन गए हैं।

ट्विटर पर मोदी को 2.65 करोड़, फेसबुक पर 3.92 करोड़, गूगल प्लस पर 32 लाख, लिंक्डइन पर 19.9 लाख, इंस्टाग्राम पर 58 लाख और यूट्यूब पर 5.91 लाख लोग फॉलो करते हैं। उनके मोबाइल एप को भी एक करोड़ बार डाउनलोड किया गया है और इस लिहाज से भी वह शीर्ष पर हैं।


अब पीएम खुद सोशल मीडिया के इस्तेमाल से जनता से लगातार जुडते जा रहे हैं। यहां तक कि गवर्नेंस भी डिजिटल होने से सरकारी कामकाज में भी तेजी आई है। 

जब पीएम सीधा जनता से संवाद कर रहे हों, वो भी 140 शब्दों के ट्वीट से, कैंपेन के नए-नए तरीके इजाद कर के। पीएम मोदी ने #संदेशटूसोल्जर, #माईक्लीनइंडिया, #इंक्रैडिबल इंडिया, #सेल्फीविदडॉटर सरीखे कैंपेन चलाएं जिसे ना सिर्फ देश बल्कि दुनिया में भी तारीफ मिली।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Thursday, 19 January 2017

वो दिन दूर नही जब कोई हिंदू बनेगा अमेरिका का राष्ट्रपति : ओबामा

नई दिल्ली : अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को उम्मीद है कि आने वाले वक्त में संयुक्त राज्य अमेरिका का राष्ट्रपति कोई महिला भी हो सकती है, कोई हिन्दू भी, और कोई यहूदी या लैटिन अमेरिकी भी।

Image Source - amarujala

दरअसल, बुधवार को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति की अपनी अंतिम पत्रकार वार्ता के दौरान अमेरिका में नस्लीय विभिन्नता पर चर्चा में बराक ओबामा से सवाल किया गया था कि क्या उन्हें लगता है कि अमेरिका में फिर कोई ब्लैक राष्ट्रपति बन सकता है या नहीं। गौरतलब है कि बराक ओबामा को अमेरिका का पहला ब्लैक राष्ट्रपति होने का गौरव प्राप्त है।

इस सवाल के जवाब में बराक ओबामा ने कहा, मुझे पूरी उम्मीद है कि आने वाले वक्त में अमेरिका में कोई महिला, कोई हिन्दू, कोई यहूदी या कोई लैटिन अमेरिकी समुदाय से भी राष्ट्रपति बनेगा। उन्होंने कहा, "जिस किसी शख्स में भी काबिलियत होती है, वह अपनी नस्ल और मान्यताओं को पीछे छोड़कर आगे बढ़ ही जाता है। और यही हमारे देश अमेरिका की ताकत है।"

बराक ओबामा ने कहा, "सच यह है कि चूंकि हमने सभी को मौके देना जारी रखा है, इसलिए जल्द ही अमेरिका को महिला राष्ट्रपति भी मिलेगी। इसी दौरान हो सकता है, अमेरिका में कोई लैटिन अमेरिकी राष्ट्रपति बने, या कोई यहूदी, या फिर कोई हिन्दू राष्ट्रपति हो जाए।"


अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उनके विचार में अमेरिका में वह वक्त आ गया है, जब एक ही वक्त में देश में कई समुदायों से राष्ट्रपति बनने लायक काबिल लोग मौजूद होते हैं। उन्होंने कहा कि यह नहीं देखा जाना चाहिए कि कोई शख्स किस नस्ल का है, किस देश का है, और उसकी आस्था क्या है।

नई दिल्ली : अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को उम्मीद है कि आने वाले वक्त में संयुक्त राज्य अमेरिका का राष्ट्रपति कोई महिला भी हो सकती है, कोई हिन्दू भी, और कोई यहूदी या लैटिन अमेरिकी भी।

Image Source - amarujala

दरअसल, बुधवार को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति की अपनी अंतिम पत्रकार वार्ता के दौरान अमेरिका में नस्लीय विभिन्नता पर चर्चा में बराक ओबामा से सवाल किया गया था कि क्या उन्हें लगता है कि अमेरिका में फिर कोई ब्लैक राष्ट्रपति बन सकता है या नहीं। गौरतलब है कि बराक ओबामा को अमेरिका का पहला ब्लैक राष्ट्रपति होने का गौरव प्राप्त है।

इस सवाल के जवाब में बराक ओबामा ने कहा, मुझे पूरी उम्मीद है कि आने वाले वक्त में अमेरिका में कोई महिला, कोई हिन्दू, कोई यहूदी या कोई लैटिन अमेरिकी समुदाय से भी राष्ट्रपति बनेगा। उन्होंने कहा, "जिस किसी शख्स में भी काबिलियत होती है, वह अपनी नस्ल और मान्यताओं को पीछे छोड़कर आगे बढ़ ही जाता है। और यही हमारे देश अमेरिका की ताकत है।"

बराक ओबामा ने कहा, "सच यह है कि चूंकि हमने सभी को मौके देना जारी रखा है, इसलिए जल्द ही अमेरिका को महिला राष्ट्रपति भी मिलेगी। इसी दौरान हो सकता है, अमेरिका में कोई लैटिन अमेरिकी राष्ट्रपति बने, या कोई यहूदी, या फिर कोई हिन्दू राष्ट्रपति हो जाए।"


अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि उनके विचार में अमेरिका में वह वक्त आ गया है, जब एक ही वक्त में देश में कई समुदायों से राष्ट्रपति बनने लायक काबिल लोग मौजूद होते हैं। उन्होंने कहा कि यह नहीं देखा जाना चाहिए कि कोई शख्स किस नस्ल का है, किस देश का है, और उसकी आस्था क्या है।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

IND vs ENG 2nd odi : युवराज और धौनी के तूफान में उड़ा इंग्‍लैंड, भारत ने मैच और श्रृंखला जीती!

नई दिल्ली : युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धौनी ने बाराबती स्टेडियम में आज यहां अपना पुराना रंग दिखाकर दिलकश शतकीय पारियां खेली जिससे भारत ने रोमांच से भरे बड़े स्कोर वाले दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में इयोन मोर्गन के साहसिक शतक पर पानी फेरकर इंग्लैंड को 15 रन से हराया। इसके साथ ही भारतीय टीम ने तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 से अजेय बढ़त बनायी।

Image Source - zeenews

युवराज ने 127 गेंदों पर 150 रन की जबर्दस्त पारी खेली जो उनके करियर का सर्वोच्च स्कोर है। धौनी ने भी अपना असली जलवा दिखाया और 122 गेंदों पर 134 रन बनाये।

भारत ने बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर कप्तान विराट कोहली सहित तीन विकेट 25 रन पर गंवा दिये थे जिसके बाद युवराज और धौनी ने चौथे विकेट के लिये रिकार्ड 256 रन की साझेदारी निभायी जिससे टीम छह विकेट पर 381 रन का विशाल स्कोर खड़ा करने में सफल रही।

मोर्गन ने आखिर तक इंग्लैंड की उम्मीद बनाये रखी लेकिन आखिर में उनकी टीम आठ विकेट पर 366 रन तक ही पहुंच पायी। सलामी बल्लेबाज जैसन राय (82) ने टीम को अच्छी शुरुआत दी और जो रुट (54) के साथ दूसरे विकेट के लिये 100 रन जोड़े।

कप्तान मोर्गन ने फार्म में वापसी करके 81 गेंदों पर 102 रन की पारी खेली और मोईन अली (55) के साथ छठे विकेट के लिये 93 रन और लियाम प्लंकेट (नाबाद 26) के साथ चार ओवर में 50 रन की साझेदारी की लेकिन यह जीत के लिये पर्याप्त नहीं था।


इंग्लैंड को आखिरी आठ ओवरों में 105 रन की दरकार थी। मोर्गन ने बड़े साहसिक तरीके से मिशन आगे बढ़ाया लेकिन जब आखिरी ओवर में 22 रन चाहिए थे तब तक वह पवेलियन लौट चुके थे। भुवनेश्वर (63 रन देकर एक) ने इस ओवर में छह रन दिये।

नई दिल्ली : युवराज सिंह और महेंद्र सिंह धौनी ने बाराबती स्टेडियम में आज यहां अपना पुराना रंग दिखाकर दिलकश शतकीय पारियां खेली जिससे भारत ने रोमांच से भरे बड़े स्कोर वाले दूसरे एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में इयोन मोर्गन के साहसिक शतक पर पानी फेरकर इंग्लैंड को 15 रन से हराया। इसके साथ ही भारतीय टीम ने तीन मैचों की श्रृंखला में 2-0 से अजेय बढ़त बनायी।

Image Source - zeenews

युवराज ने 127 गेंदों पर 150 रन की जबर्दस्त पारी खेली जो उनके करियर का सर्वोच्च स्कोर है। धौनी ने भी अपना असली जलवा दिखाया और 122 गेंदों पर 134 रन बनाये।

भारत ने बल्लेबाजी का न्यौता मिलने पर कप्तान विराट कोहली सहित तीन विकेट 25 रन पर गंवा दिये थे जिसके बाद युवराज और धौनी ने चौथे विकेट के लिये रिकार्ड 256 रन की साझेदारी निभायी जिससे टीम छह विकेट पर 381 रन का विशाल स्कोर खड़ा करने में सफल रही।

मोर्गन ने आखिर तक इंग्लैंड की उम्मीद बनाये रखी लेकिन आखिर में उनकी टीम आठ विकेट पर 366 रन तक ही पहुंच पायी। सलामी बल्लेबाज जैसन राय (82) ने टीम को अच्छी शुरुआत दी और जो रुट (54) के साथ दूसरे विकेट के लिये 100 रन जोड़े।

कप्तान मोर्गन ने फार्म में वापसी करके 81 गेंदों पर 102 रन की पारी खेली और मोईन अली (55) के साथ छठे विकेट के लिये 93 रन और लियाम प्लंकेट (नाबाद 26) के साथ चार ओवर में 50 रन की साझेदारी की लेकिन यह जीत के लिये पर्याप्त नहीं था।


इंग्लैंड को आखिरी आठ ओवरों में 105 रन की दरकार थी। मोर्गन ने बड़े साहसिक तरीके से मिशन आगे बढ़ाया लेकिन जब आखिरी ओवर में 22 रन चाहिए थे तब तक वह पवेलियन लौट चुके थे। भुवनेश्वर (63 रन देकर एक) ने इस ओवर में छह रन दिये।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

यूपी : कोहरे की वजह से स्कूल बस हादसा, 25 बच्‍चों की मौत!

नई दिल्ली : यूपी के एटा में गुरुवार सुबह एक भीषण हादसा हुआ है। इस हादसे में अब तक 25 बच्‍चों की मौत की खबर है वहीं कई अन्‍य घायल बताए जा रहे हैं।

Image Source - Live Hindustan

जानकारी के अनुसार एटा के अलीगंज इलाके में यह हादसा हुआ जब श्‍हार के एक जेएस विद्या पब्लिक स्‍कूल स्‍कूल की बस एलकेजी से 7वीं कक्षा तक के बच्‍चों को लेकर जा रही थी। 

तभी सामने से आ रहे बालू से भरे एक तेज रफ्तार ट्रक ने इसे टक्‍कर मार दी। इस बस में 50-55 बच्‍चे सवार थे।

दुर्घटना इतनी भीषण थी कि इसमें 25 बच्‍चों की मौत की पुष्टि हो गई है वहीं कई 25 से ज्‍यादा गंभीर रूप से घायल हो गए।


हादसे के बाद सभी बच्‍चों को अस्‍पताल पहुंचाया गया है। आशंका जताई जा रही है कि दुर्घटना में मरने वालों की संख्‍या बढ़ सकती है।

नई दिल्ली : यूपी के एटा में गुरुवार सुबह एक भीषण हादसा हुआ है। इस हादसे में अब तक 25 बच्‍चों की मौत की खबर है वहीं कई अन्‍य घायल बताए जा रहे हैं।

Image Source - Live Hindustan

जानकारी के अनुसार एटा के अलीगंज इलाके में यह हादसा हुआ जब श्‍हार के एक जेएस विद्या पब्लिक स्‍कूल स्‍कूल की बस एलकेजी से 7वीं कक्षा तक के बच्‍चों को लेकर जा रही थी। 

तभी सामने से आ रहे बालू से भरे एक तेज रफ्तार ट्रक ने इसे टक्‍कर मार दी। इस बस में 50-55 बच्‍चे सवार थे।

दुर्घटना इतनी भीषण थी कि इसमें 25 बच्‍चों की मौत की पुष्टि हो गई है वहीं कई 25 से ज्‍यादा गंभीर रूप से घायल हो गए।


हादसे के बाद सभी बच्‍चों को अस्‍पताल पहुंचाया गया है। आशंका जताई जा रही है कि दुर्घटना में मरने वालों की संख्‍या बढ़ सकती है।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Wednesday, 18 January 2017

स्मृति इरानी ने DU से कहा - डिग्री मत दिखाना!

नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की शैक्षणिक योग्यता को लेकर जारी विवाद के बीच स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (एसओएल) ने केंद्रीय सूचना आयोग को बताया कि ईरानी ने एक आरटीआई आवेदन पर दिल्ली विश्वविद्यालय को उनकी शैक्षणिक योग्यता का खुलासा नहीं करने को कहा है।

Image Source - thepoliticalfunda

आयोग ने स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग को ईरानी के शैक्षणिक विवरण से जुड़े सभी रिकॉर्ड उसके समक्ष पेश करने का निर्देश दिया है।

आयोग के समक्ष रिकॉर्ड प्रस्तुत करने में विफल रहने के लिए डीयू के केंद्रीय जन सूचना अधिकारी को एक ताजा कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

एक याचिकाकर्ता द्वारा यह आरोप लगाने कि ईरानी ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव लड़ने से पहले दाखिल अपने हलफनामों में विरोधाभासी सूचना दी थी, ईरानी की डिग्रियों को लेकर विवाद खड़ा हुआ।

अप्रैल, 2004 लोकसभा चुनावों के लिए अपने हलफनामे में ईरानी ने कहा था कि उन्होंने अपना बीए 1996 में डीयू (स्कूल ऑफ कॉरेसपोंडेंस) से किया, जबकि 11 जुलाई, 2011 के एक अन्य हलफनामे में जो उन्होंने गुजरात से राज्यसभा चुनाव लड़ने के लिए दाखिल किया था, उन्होंने कहा कि उनकी उच्चतम शैक्षणिक योग्यता बी/कॉम पार्ट-1 है।


यद्यपि इस मामले को अदालत द्वारा इस आधार पर खारिज कर दिया गया था कि शिकायत दाखिल करने में पहले ही काफी समय गुजर चुका है। केंद्रीय सूचना आयोग के समक्ष यह मुद्दा कायम है।

नई दिल्ली : केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की शैक्षणिक योग्यता को लेकर जारी विवाद के बीच स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (एसओएल) ने केंद्रीय सूचना आयोग को बताया कि ईरानी ने एक आरटीआई आवेदन पर दिल्ली विश्वविद्यालय को उनकी शैक्षणिक योग्यता का खुलासा नहीं करने को कहा है।

Image Source - thepoliticalfunda

आयोग ने स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग को ईरानी के शैक्षणिक विवरण से जुड़े सभी रिकॉर्ड उसके समक्ष पेश करने का निर्देश दिया है।

आयोग के समक्ष रिकॉर्ड प्रस्तुत करने में विफल रहने के लिए डीयू के केंद्रीय जन सूचना अधिकारी को एक ताजा कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।

एक याचिकाकर्ता द्वारा यह आरोप लगाने कि ईरानी ने 2004, 2011 और 2014 में चुनाव लड़ने से पहले दाखिल अपने हलफनामों में विरोधाभासी सूचना दी थी, ईरानी की डिग्रियों को लेकर विवाद खड़ा हुआ।

अप्रैल, 2004 लोकसभा चुनावों के लिए अपने हलफनामे में ईरानी ने कहा था कि उन्होंने अपना बीए 1996 में डीयू (स्कूल ऑफ कॉरेसपोंडेंस) से किया, जबकि 11 जुलाई, 2011 के एक अन्य हलफनामे में जो उन्होंने गुजरात से राज्यसभा चुनाव लड़ने के लिए दाखिल किया था, उन्होंने कहा कि उनकी उच्चतम शैक्षणिक योग्यता बी/कॉम पार्ट-1 है।


यद्यपि इस मामले को अदालत द्वारा इस आधार पर खारिज कर दिया गया था कि शिकायत दाखिल करने में पहले ही काफी समय गुजर चुका है। केंद्रीय सूचना आयोग के समक्ष यह मुद्दा कायम है।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.