Thursday, 27 April 2017

लंबे समय से बीमार चल रहे फिल्म अभिनेता विनोद खन्ना का निधन!

नई दिल्ली : मशहूर बॉलिवुड ऐक्टर विनोद खन्ना का निधन हो गया है। 70 वर्षीय खन्ना कैंसर से पीड़ित थे। हाल ही में उनकी एक तस्वीर भी वायरल हुई थी, जिसमें वे बेहद कमजोर नजर आ रहे थे।

Image Source - india

विनोद खन्ना ऐक्टिंग के अलावा राजनीति में भी सक्रिय थे। गुरुदासपुर से सांसद रहे विनोद खन्ना ने मुंबई के रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में अंतिम सांस ली।

खन्ना को बीते 31 मार्च को मुंबई स्थित सर एच एन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि, अस्पताल की ओर से यही कहा गया था कि खन्ना के शरीर में पानी की कमी हो गई है। विनोद खन्ना के दो बेटे अक्षय खन्ना और राहुल खन्ना हैं, जो बॉलिवुड में सक्रिय हैं।

खन्ना ने अभिनय की शुरुआज 1968 में फिल्म मन का मीतसे की। उन्होंने इसके साथ ही उन्होंने मेरे अपने’, ‘मेरा गांव मेरा देश’, ‘इम्तिहान’, ‘इनकार’, ‘अमर अकबर एंथनी’, ‘लहू के दो रंग’, ‘कुर्बानी’, ‘दयावानऔर जुर्मजैसी फिल्मों में उनके अभिनय के लिए जाना जाता है। वह आखिरी बार 2015 में शाहरुख खान की फिल्म दिलवालेमें नजर आए थे।

विनोद खन्ना अपने वक्त के सबसे हैंसम अभिनेताओं में गिने जाते थे। उन्होंने कई ब्लॉकबस्टर फिल्मों में काम किया। उनका जन्म 1946 में पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत नकारात्मक किरदारों से की। बाद में वह मुख्यधारा के हीरो बन गए।


उन्होंने सुनील दत्त की 1968 में आई फिल्म 'मन का मीत' में विलेन का किरदार निभाया। शुरुआत के दिनों में वह सह अभिनेता या विलेन के रोल में ही नजर आए। ये फिल्में थीं, पूरब और पश्चिम, सच्चा झूठा, आन मिलो सजन, मस्ताना, मेरा गांव मेरा देश, ऐलान आदि।

नई दिल्ली : मशहूर बॉलिवुड ऐक्टर विनोद खन्ना का निधन हो गया है। 70 वर्षीय खन्ना कैंसर से पीड़ित थे। हाल ही में उनकी एक तस्वीर भी वायरल हुई थी, जिसमें वे बेहद कमजोर नजर आ रहे थे।

Image Source - india

विनोद खन्ना ऐक्टिंग के अलावा राजनीति में भी सक्रिय थे। गुरुदासपुर से सांसद रहे विनोद खन्ना ने मुंबई के रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में अंतिम सांस ली।

खन्ना को बीते 31 मार्च को मुंबई स्थित सर एच एन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि, अस्पताल की ओर से यही कहा गया था कि खन्ना के शरीर में पानी की कमी हो गई है। विनोद खन्ना के दो बेटे अक्षय खन्ना और राहुल खन्ना हैं, जो बॉलिवुड में सक्रिय हैं।

खन्ना ने अभिनय की शुरुआज 1968 में फिल्म मन का मीतसे की। उन्होंने इसके साथ ही उन्होंने मेरे अपने’, ‘मेरा गांव मेरा देश’, ‘इम्तिहान’, ‘इनकार’, ‘अमर अकबर एंथनी’, ‘लहू के दो रंग’, ‘कुर्बानी’, ‘दयावानऔर जुर्मजैसी फिल्मों में उनके अभिनय के लिए जाना जाता है। वह आखिरी बार 2015 में शाहरुख खान की फिल्म दिलवालेमें नजर आए थे।

विनोद खन्ना अपने वक्त के सबसे हैंसम अभिनेताओं में गिने जाते थे। उन्होंने कई ब्लॉकबस्टर फिल्मों में काम किया। उनका जन्म 1946 में पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत नकारात्मक किरदारों से की। बाद में वह मुख्यधारा के हीरो बन गए।


उन्होंने सुनील दत्त की 1968 में आई फिल्म 'मन का मीत' में विलेन का किरदार निभाया। शुरुआत के दिनों में वह सह अभिनेता या विलेन के रोल में ही नजर आए। ये फिल्में थीं, पूरब और पश्चिम, सच्चा झूठा, आन मिलो सजन, मस्ताना, मेरा गांव मेरा देश, ऐलान आदि।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

कुपवाड़ा : आर्मी कैंप पर हमला, 3 जवान शहीद!

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा के पंजगाम सेक्टर में आर्मी कैंप पर आतंकी हमला हुआ है। आत्मघाती आतंकी हमले में एक कैप्टन, एक जेसीओ और एक जवान शहीद हो गए। सुरक्षाबलों के ऑपरेशन में दो आतंकी भी मारे गए। ये हमला सेना के आर्टीलरी बेस पर हुआ है। ये आर्मी कैंप एलओसी से 5 किलोमीटर दूर कुपवाड़ा में स्थित है।

Image Source - aajtak

आतंकियों ने सुबह 5.15 बजे के आसपास एलओसी के पास कुपवाड़ा के पंजगाम में आर्मी कैंप में घुसने की कोशिश की। सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया और दो आतंकियों को मार गिराया। इस हमले के बाद सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है। कैंप के अंदर और बाहर तलाशी अभियान जारी है। लगातार दोनों ओर से फायरिंग हो रही है।

इस आतंकी हमले में कैप्टन समेत सेना के 3 जवान शहीद हुए हैं। 5 जवान घायल हुए हैं। घायल जवानों को एयरलिफ्ट कर श्रीनगर लाया गया है। घायल जवानों का इलाज श्रीनगर आर्मी अस्पताल में किया जा रहा है।

गृह मंत्रालय ने बुलाई अहम बैठक :-

कुपवाड़ा हमले के बाद गृहमंत्रालय ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में यह बैठक सुबह 11 बजे होगी। बैठक में राजनाथ सिंह के अलावा गृह सचिव,जॉइंट सेक्रेट्री जम्मू कश्मीर, जम्मू कश्मीर के चीफ सेक्रेटरी, ख़ुफ़िया विभाग के अधिकारी सहित गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी मौजूद रहेंगे। हाल के दिनों में कश्मीर में हमले तेज हुए हैं। साथ ही अलगाववादियों की शह पर पत्थरबाजी की घटनाएं भी बढ़ी हैं।


गृह मंत्रालय की बैठक में कश्मीर में लगातार सुरक्षाबलों पर हो रहे हमलों और पत्थरबाजी की घटनाओं पर चर्चा होगी। इसके साथ ही कश्मीर के लिए दिये गये स्पेशल पैकेज पर कितना खर्च हुआ है, इस पर भी चर्चा होगी।

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा के पंजगाम सेक्टर में आर्मी कैंप पर आतंकी हमला हुआ है। आत्मघाती आतंकी हमले में एक कैप्टन, एक जेसीओ और एक जवान शहीद हो गए। सुरक्षाबलों के ऑपरेशन में दो आतंकी भी मारे गए। ये हमला सेना के आर्टीलरी बेस पर हुआ है। ये आर्मी कैंप एलओसी से 5 किलोमीटर दूर कुपवाड़ा में स्थित है।

Image Source - aajtak

आतंकियों ने सुबह 5.15 बजे के आसपास एलओसी के पास कुपवाड़ा के पंजगाम में आर्मी कैंप में घुसने की कोशिश की। सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन शुरू किया और दो आतंकियों को मार गिराया। इस हमले के बाद सुरक्षा बलों ने पूरे इलाके को घेर लिया है। कैंप के अंदर और बाहर तलाशी अभियान जारी है। लगातार दोनों ओर से फायरिंग हो रही है।

इस आतंकी हमले में कैप्टन समेत सेना के 3 जवान शहीद हुए हैं। 5 जवान घायल हुए हैं। घायल जवानों को एयरलिफ्ट कर श्रीनगर लाया गया है। घायल जवानों का इलाज श्रीनगर आर्मी अस्पताल में किया जा रहा है।

गृह मंत्रालय ने बुलाई अहम बैठक :-

कुपवाड़ा हमले के बाद गृहमंत्रालय ने उच्च स्तरीय बैठक बुलाई है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में यह बैठक सुबह 11 बजे होगी। बैठक में राजनाथ सिंह के अलावा गृह सचिव,जॉइंट सेक्रेट्री जम्मू कश्मीर, जम्मू कश्मीर के चीफ सेक्रेटरी, ख़ुफ़िया विभाग के अधिकारी सहित गृह मंत्रालय के दूसरे अधिकारी मौजूद रहेंगे। हाल के दिनों में कश्मीर में हमले तेज हुए हैं। साथ ही अलगाववादियों की शह पर पत्थरबाजी की घटनाएं भी बढ़ी हैं।


गृह मंत्रालय की बैठक में कश्मीर में लगातार सुरक्षाबलों पर हो रहे हमलों और पत्थरबाजी की घटनाओं पर चर्चा होगी। इसके साथ ही कश्मीर के लिए दिये गये स्पेशल पैकेज पर कितना खर्च हुआ है, इस पर भी चर्चा होगी।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Wednesday, 26 April 2017

जो किसी नेता ने नहीं किया वो मोदी ने करके दिखाया : बिल गेट्स

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से पद संभाला है तभी से लगातार उनके प्रशंसकों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। देश ही नहीं विदेश में भी लोग उनके फैन हो रहे है। लोग प्रधानमंत्री मोदी द्वारा देश की भलाई के लिए किए गए कामो की खूब प्रशंसा करते हैं।

Image Source - PK

अब इस फेहरिस्त में माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स का नाम भी जुड गया है। गेट्स ने एक बार फिर पी.एम. मोदी की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं। माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक ने एक ब्लॉग में प्रधानमंत्री द्वारा स्वच्छता और खुले में शौच को रोकने के लिए उठाए गए कदमों की सराहना की है।

प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ करते हुए गेट्स ने कहा कि, पी.एम. ने जन स्वास्थय को लेकर काफी कारगर कदम उठाए हैं और इसका काफी असर दिखने लगा है। उन्होंने यह भी कहा कि मोदी ने अपने पहले स्वतंत्रता दिवस के सम्बोधन में भी इसके बारे में कहा था। बिल गेट्स ने एक ब्लॉग में लिखा, 'करीब 3 साल पहले भारत के प्रधानमंत्री ने जन स्वास्थ्य को लेकर ऐसी साहसिक बातें कही, जो हमने आज तक किसी निर्वाचित सदस्यों के मुंह से नहीं सुनी हैं।

उनके इस बात का असर भी पड़ता दिख रहा है।' उन्होंने ब्लॉग में लिखा कि प्रधानमंत्री मोदी ने केवल भाषण ही नहीं दिया है बल्कि देश को स्वच्छ बनाने के लिए कदम भी उठाए हैं। बता दें कि, पी.एम. मोदी ने लगातार स्वच्छता के मुद्दे पर काम किया है। उन्हें कई बार स्वच्छ भारत अभियान को लेकर लोगों को अवगत करते हुए देखा गया है। पी.एम. मोदी के नेतृत्व में लगातार खुले में शौच को खत्म करने को लेकर तेज अभियान छेड़ा है। देश के कई गांव में घरों में शौचालय बनाए गए हैं।

लिखे पी.एम. मोदी के भाषण के कुछ अंश :-

बिल गेट्स ने अपने ब्लॉग में पी.एम. मोदी के भाषण के कुछ मुख्य अंशों का भी जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है, 'हम 21वीं सदी में रह रहे हैं। क्या हमें कभी इस बात को लेकर तकलीफ महसूस हुई कि हमारी माताएं और बहनें खुले में शौच करने को मजबूर हैं? गांव की गरीब महिलाएं रात के अंधेरे का इंतजार करती हैं ताकि वे शौच के लिए जा सकें। इसका उनके शरीर पर क्या असर पड़ेगा, कितनी बीमारियों का उनको खतरा है। क्या हम अपनी मां और बहनों की मर्यादा को ध्यान में रखकर उनके लिए शौचालय नहीं बना सकते हैं।'

पी.एम. मोदी के प्रयास हुए सफल :-


पी.एम. मोदी के प्रयासों की सफलता का वर्णन करते हुए वह लिखते है कि 2014 में जब स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत हुई थी, उस समय सिर्फ 42 फीसदी भारतीय लोगों को ही उचित स्वच्छता उपलब्ध थी। लेकिन आज के समय 63 फीसदी लोगों को इसका फायदा मिल रहा है। वहीं, 2 अक्टूबर, 2019 तक इस लक्षय को पूरा करने के लिए सरकार के पास एक विस्तृत योजना भी तैयार है।

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब से पद संभाला है तभी से लगातार उनके प्रशंसकों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। देश ही नहीं विदेश में भी लोग उनके फैन हो रहे है। लोग प्रधानमंत्री मोदी द्वारा देश की भलाई के लिए किए गए कामो की खूब प्रशंसा करते हैं।

Image Source - PK

अब इस फेहरिस्त में माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स का नाम भी जुड गया है। गेट्स ने एक बार फिर पी.एम. मोदी की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं। माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक ने एक ब्लॉग में प्रधानमंत्री द्वारा स्वच्छता और खुले में शौच को रोकने के लिए उठाए गए कदमों की सराहना की है।

प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ करते हुए गेट्स ने कहा कि, पी.एम. ने जन स्वास्थय को लेकर काफी कारगर कदम उठाए हैं और इसका काफी असर दिखने लगा है। उन्होंने यह भी कहा कि मोदी ने अपने पहले स्वतंत्रता दिवस के सम्बोधन में भी इसके बारे में कहा था। बिल गेट्स ने एक ब्लॉग में लिखा, 'करीब 3 साल पहले भारत के प्रधानमंत्री ने जन स्वास्थ्य को लेकर ऐसी साहसिक बातें कही, जो हमने आज तक किसी निर्वाचित सदस्यों के मुंह से नहीं सुनी हैं।

उनके इस बात का असर भी पड़ता दिख रहा है।' उन्होंने ब्लॉग में लिखा कि प्रधानमंत्री मोदी ने केवल भाषण ही नहीं दिया है बल्कि देश को स्वच्छ बनाने के लिए कदम भी उठाए हैं। बता दें कि, पी.एम. मोदी ने लगातार स्वच्छता के मुद्दे पर काम किया है। उन्हें कई बार स्वच्छ भारत अभियान को लेकर लोगों को अवगत करते हुए देखा गया है। पी.एम. मोदी के नेतृत्व में लगातार खुले में शौच को खत्म करने को लेकर तेज अभियान छेड़ा है। देश के कई गांव में घरों में शौचालय बनाए गए हैं।

लिखे पी.एम. मोदी के भाषण के कुछ अंश :-

बिल गेट्स ने अपने ब्लॉग में पी.एम. मोदी के भाषण के कुछ मुख्य अंशों का भी जिक्र किया है। उन्होंने लिखा है, 'हम 21वीं सदी में रह रहे हैं। क्या हमें कभी इस बात को लेकर तकलीफ महसूस हुई कि हमारी माताएं और बहनें खुले में शौच करने को मजबूर हैं? गांव की गरीब महिलाएं रात के अंधेरे का इंतजार करती हैं ताकि वे शौच के लिए जा सकें। इसका उनके शरीर पर क्या असर पड़ेगा, कितनी बीमारियों का उनको खतरा है। क्या हम अपनी मां और बहनों की मर्यादा को ध्यान में रखकर उनके लिए शौचालय नहीं बना सकते हैं।'

पी.एम. मोदी के प्रयास हुए सफल :-


पी.एम. मोदी के प्रयासों की सफलता का वर्णन करते हुए वह लिखते है कि 2014 में जब स्वच्छ भारत अभियान की शुरूआत हुई थी, उस समय सिर्फ 42 फीसदी भारतीय लोगों को ही उचित स्वच्छता उपलब्ध थी। लेकिन आज के समय 63 फीसदी लोगों को इसका फायदा मिल रहा है। वहीं, 2 अक्टूबर, 2019 तक इस लक्षय को पूरा करने के लिए सरकार के पास एक विस्तृत योजना भी तैयार है।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Tuesday, 25 April 2017

BJP विधायक का फरमान - "जो गो तस्करी करेगा वो मरेगा"!

नई दिल्ली : अक्सर अपने बयानों के चलते विवादों में रहने वाले बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है।

Image Source - news18

अलवर जिले के बहरोड़ में गौतस्करी के आरोप में पिटाई से हुई पहलू खां की मौत के मामले में आहूजा ने कहा कि पहलू खां गौतस्कर था, मुझे पहलू खां की मौत का कोई अफसोस नहीं और अफसोस होना भी नहीं चाहिए।

ऐसे गौतस्करों, पापियों का ऐसा ही हश्र होता है और होता रहेगा। उन्होंने ये बातें सोमवार को राजस्थान विधानसभा के बाहर मीडिया से बातचीत करते हुए कहीं।

आहूजा ने पूर्व सीएम अशोक गहलोत पर भी निशना साधा और उन्हें गुरुघंटाल तक कह दिया। कांग्रेस की धौलपुर में हार पर गहलोत के बयान पर पलटवार करते हुए आहूजा ने कहा, गहलोत कह रहे हैं कि ओवरकॉन्फिडेंस से हारे, तो पायलट को यह बात पहले क्यों नहीं बताई।

गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा में सोमवार को शून्यकाल के दौरान बहरोड़ में गौरक्षकों की पिटाई से हुई पहलू खां की मौत और सीकर में बालिका से दुष्कर्म के मामले में जमकर हंगामा हुआ था।


गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया ने पहलू खां को गौतस्कर बताते हुए कहा था कि सरकार ने इस मामले में कानून सम्मत कार्रवाई की है। नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने गृह मंत्री द्वारा पहलू खां को गौतस्कर बताने पर सवाल उठाया तो कटारिया ने कहा, जो अवैध रूप से गायों को ले जाएगा वह गौतस्कर ही कहा जाएगा।

नई दिल्ली : अक्सर अपने बयानों के चलते विवादों में रहने वाले बीजेपी विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है।

Image Source - news18

अलवर जिले के बहरोड़ में गौतस्करी के आरोप में पिटाई से हुई पहलू खां की मौत के मामले में आहूजा ने कहा कि पहलू खां गौतस्कर था, मुझे पहलू खां की मौत का कोई अफसोस नहीं और अफसोस होना भी नहीं चाहिए।

ऐसे गौतस्करों, पापियों का ऐसा ही हश्र होता है और होता रहेगा। उन्होंने ये बातें सोमवार को राजस्थान विधानसभा के बाहर मीडिया से बातचीत करते हुए कहीं।

आहूजा ने पूर्व सीएम अशोक गहलोत पर भी निशना साधा और उन्हें गुरुघंटाल तक कह दिया। कांग्रेस की धौलपुर में हार पर गहलोत के बयान पर पलटवार करते हुए आहूजा ने कहा, गहलोत कह रहे हैं कि ओवरकॉन्फिडेंस से हारे, तो पायलट को यह बात पहले क्यों नहीं बताई।

गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा में सोमवार को शून्यकाल के दौरान बहरोड़ में गौरक्षकों की पिटाई से हुई पहलू खां की मौत और सीकर में बालिका से दुष्कर्म के मामले में जमकर हंगामा हुआ था।


गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया ने पहलू खां को गौतस्कर बताते हुए कहा था कि सरकार ने इस मामले में कानून सम्मत कार्रवाई की है। नेता प्रतिपक्ष रामेश्वर डूडी ने गृह मंत्री द्वारा पहलू खां को गौतस्कर बताने पर सवाल उठाया तो कटारिया ने कहा, जो अवैध रूप से गायों को ले जाएगा वह गौतस्कर ही कहा जाएगा।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

खुलासा : अगर न किया होता एनकाउंटर तो आज जिंदा नहीं होते PM मोदी

नई दिल्ली : गुजरात के पूर्व भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी (आईपीएस) डीजी बंजारा ने फर्जी एनकाउंटर के मामले में दावा करते हुए कहा है कि अगर उन्होंने वह एनकाउंटर न किया होता, तो आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिंदा न बचे होते।

Image Source - prabhatkhabar

सोमवार को अपने सम्मान में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पूर्व आईपीएस अफसर ने फर्जी एनकाउंटर से जुड़े कई अहम तथ्यों का खुलासा किया है। इस कार्यक्रम में उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने जितने भी एनकाउंटर किये हैं, वह सभी कानून दायरे में रहकर किये गये हैं।

जमानत पर जेल से रिहा होने के बाद पूर्व आईपीएस अफसर डीजी बंजारा अभी तक करीब-करीब 56 जनसभाओं और कार्यक्रमों में भाग ले चुके हैं। इसी क्रम में सोमवार को वह अहमदाबाद में अपने सम्मान में आयोजित की गयी एक रोड शो और फिर सम्मान कार्यक्रम में भाग ले रहे थे। इस कार्यक्रम में डीजी बंजारा को 10 रुपये के सिक्कों से तौला गया और बाद में बंजारा ने मंच से लोगों को संबोधित किया।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक, सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए डीजी बंजारा ने कहा कि आज से ठीक 10 साल पहले मुझे गिरफ्तार किया गया था। मुझ पर जो आरोप लगाये गये उस बारे में कहना चाहता हूं कि अगर मैंने वह एनकाउंटर नहीं किये होते, तो आज गुजरात कश्मीर बन गया होता।

इस कार्यक्रम में जनसभा को संबोधित करते हुए बंजारा ने आगे कहा कि उनके सभी एनकाउंटर कानून के दायरे में रहते हुए किये गये और अगर नहीं किये जाते, तो आज पीएम मोदी जिंदा नहीं होते।


गौरतलब है कि डीजी बंजारा गुजरात विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं। अभी तक उन्होंने यह खुलासा तो नहीं किया है कि वह अपने राजनैतिक सफर की शुरूआत किस पार्टी से करेंगे, लेकिन उनकी सक्रियता और उनके बयानों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह भाजपा के साथ इस सफर की शुरूआत कर सकते हैं।

नई दिल्ली : गुजरात के पूर्व भारतीय पुलिस सेवा अधिकारी (आईपीएस) डीजी बंजारा ने फर्जी एनकाउंटर के मामले में दावा करते हुए कहा है कि अगर उन्होंने वह एनकाउंटर न किया होता, तो आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जिंदा न बचे होते।

Image Source - prabhatkhabar

सोमवार को अपने सम्मान में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पूर्व आईपीएस अफसर ने फर्जी एनकाउंटर से जुड़े कई अहम तथ्यों का खुलासा किया है। इस कार्यक्रम में उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने जितने भी एनकाउंटर किये हैं, वह सभी कानून दायरे में रहकर किये गये हैं।

जमानत पर जेल से रिहा होने के बाद पूर्व आईपीएस अफसर डीजी बंजारा अभी तक करीब-करीब 56 जनसभाओं और कार्यक्रमों में भाग ले चुके हैं। इसी क्रम में सोमवार को वह अहमदाबाद में अपने सम्मान में आयोजित की गयी एक रोड शो और फिर सम्मान कार्यक्रम में भाग ले रहे थे। इस कार्यक्रम में डीजी बंजारा को 10 रुपये के सिक्कों से तौला गया और बाद में बंजारा ने मंच से लोगों को संबोधित किया।

मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक, सोमवार को आयोजित कार्यक्रम में लोगों को संबोधित करते हुए डीजी बंजारा ने कहा कि आज से ठीक 10 साल पहले मुझे गिरफ्तार किया गया था। मुझ पर जो आरोप लगाये गये उस बारे में कहना चाहता हूं कि अगर मैंने वह एनकाउंटर नहीं किये होते, तो आज गुजरात कश्मीर बन गया होता।

इस कार्यक्रम में जनसभा को संबोधित करते हुए बंजारा ने आगे कहा कि उनके सभी एनकाउंटर कानून के दायरे में रहते हुए किये गये और अगर नहीं किये जाते, तो आज पीएम मोदी जिंदा नहीं होते।


गौरतलब है कि डीजी बंजारा गुजरात विधानसभा चुनाव लड़ना चाहते हैं। अभी तक उन्होंने यह खुलासा तो नहीं किया है कि वह अपने राजनैतिक सफर की शुरूआत किस पार्टी से करेंगे, लेकिन उनकी सक्रियता और उनके बयानों से अंदाजा लगाया जा सकता है कि वह भाजपा के साथ इस सफर की शुरूआत कर सकते हैं।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Monday, 24 April 2017

बाबा रामदेव की पतंजलि का आंवला जूस बैन, लैब टेस्‍ट में फेल होने पर उठाया कदम!

नई दिल्ली : योग गुरु बाबा रामदेव की 5,000 करोड़ रुपये से अधिक की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद को सेना के कैंटीन डिपार्टमेंट से बड़ा झटका लगा है।

Image Source - glowpink

कैंटीन स्टोर्स डिपार्टमेंट ने अपनी कैंटीन में पतंजलि आयुर्वेद के आंवला जूस की बिक्री पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही बाबा रामदेव की कंपनी एक बार फिर विवादों में घिरती दिख रही है।

आंवला जूस के बैच की कोलकाता की सेंट्रल फूड लैबोरेटरी में जांच की गयी, तो उत्पाद को उपयोग के लिए ठीक नहीं पाया गया। इसके बाद सीएसडी ने इस उत्पाद की बिक्री पर रोक लगा दी। पतंजलि ने आर्मी की सभी कैंटीनों से आंवला जूस वापस ले लिया है।

आपको बता दे की इसी लैबोरेटरी ने मैगी के नूडल्स में तय मात्रा से अधिक शीशा की रिपोर्ट दी थी, जिसके बाद मल्टीनेशनल कंपनी को मैगी के अपने उत्पाद बाजार से वापस लेने पड़े थे। कंपनी को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ था। हालांकि, बाद में कंपनी ने कानूनी लड़ाई जीती और फिर अपने उत्पाद बाजार में उतारे।

बहरहाल, सीएसडी की ओर से तीन अप्रैल, 2017 को जारी एक पत्र में सभी डिपो को निर्देशित किया गया है कि मौजूदा स्टॉक के लिए वे सभी एक डेबिट नोट बनायें, ताकि उसे लौटाया जा सके। आंवला का जूस पतंजलि आयुर्वेद के शुरुआती उत्पादों में शामिल है।

आंवला जूस की सफलता के बाद ही कंपनी ने दो दर्जन से ज्यादा वर्गों में अपने उत्पाद बाजार में उतारे थे। योग गुरु की कंपनी का दावा था कि उनका उत्पाद अन्य कंपनियों के उत्पादों के मुकाबले सेहत के लिए सस्ता और ज्यादा मुफीद है।

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि योग गुरु की कंपनी कई बार नीति नियामक संस्थानों से टकरा चुकी है। हाल ही में जब मैगी के नूडल्स तय मात्रा से अधिक शीशा पाये जाने पर बाजार से बाहर हुई थी, तो बाबा ने आटा नूडल्स बाजार में उतार दिया था। जरूरी लाइसेंस लिये बिना उत्पाद को बाजार में उतारने के लिए और अपने खाद्य तेल को बेचने के लिए भ्रामक विज्ञापन चलाने के लिए एफएसएसएआइ ने उन्हें आड़े हाथों लिया था।

आपको बता दे की सेना ने अपने जवानों और अधिकारियों को सस्ता सामान उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 1948 में सीएसडी की स्थापना की थी। वर्तमान में यह संस्था अपने 34 डिपोट और 3,901 यूनिट के जरिये भारतीय सुरक्षा बलों से जुड़े 1.2 करोड़ लोगों को इस कैंटीन के जरिये 5,300 उत्पादों की बिक्री करती है।


कंज्यूमर प्रोडक्ट कंपनियों की कुल बिक्री में सीएसडी कैंटीन की हिस्सेदारी पांच से सात फीसदी के बीच है। आर्मी कैंटीन में पतंजलि के उत्पादों की अच्छी खासी बिक्री होती थी। एक उत्पाद के जांच में फेल होने के बाद कंपनी के अन्य उत्पादों की भी जांच हो सकती है, जिससे बाबा की कंपनी को बड़ी चपत लगने की आशंका है। 

नई दिल्ली : योग गुरु बाबा रामदेव की 5,000 करोड़ रुपये से अधिक की कंपनी पतंजलि आयुर्वेद को सेना के कैंटीन डिपार्टमेंट से बड़ा झटका लगा है।

Image Source - glowpink

कैंटीन स्टोर्स डिपार्टमेंट ने अपनी कैंटीन में पतंजलि आयुर्वेद के आंवला जूस की बिक्री पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही बाबा रामदेव की कंपनी एक बार फिर विवादों में घिरती दिख रही है।

आंवला जूस के बैच की कोलकाता की सेंट्रल फूड लैबोरेटरी में जांच की गयी, तो उत्पाद को उपयोग के लिए ठीक नहीं पाया गया। इसके बाद सीएसडी ने इस उत्पाद की बिक्री पर रोक लगा दी। पतंजलि ने आर्मी की सभी कैंटीनों से आंवला जूस वापस ले लिया है।

आपको बता दे की इसी लैबोरेटरी ने मैगी के नूडल्स में तय मात्रा से अधिक शीशा की रिपोर्ट दी थी, जिसके बाद मल्टीनेशनल कंपनी को मैगी के अपने उत्पाद बाजार से वापस लेने पड़े थे। कंपनी को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ था। हालांकि, बाद में कंपनी ने कानूनी लड़ाई जीती और फिर अपने उत्पाद बाजार में उतारे।

बहरहाल, सीएसडी की ओर से तीन अप्रैल, 2017 को जारी एक पत्र में सभी डिपो को निर्देशित किया गया है कि मौजूदा स्टॉक के लिए वे सभी एक डेबिट नोट बनायें, ताकि उसे लौटाया जा सके। आंवला का जूस पतंजलि आयुर्वेद के शुरुआती उत्पादों में शामिल है।

आंवला जूस की सफलता के बाद ही कंपनी ने दो दर्जन से ज्यादा वर्गों में अपने उत्पाद बाजार में उतारे थे। योग गुरु की कंपनी का दावा था कि उनका उत्पाद अन्य कंपनियों के उत्पादों के मुकाबले सेहत के लिए सस्ता और ज्यादा मुफीद है।

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि योग गुरु की कंपनी कई बार नीति नियामक संस्थानों से टकरा चुकी है। हाल ही में जब मैगी के नूडल्स तय मात्रा से अधिक शीशा पाये जाने पर बाजार से बाहर हुई थी, तो बाबा ने आटा नूडल्स बाजार में उतार दिया था। जरूरी लाइसेंस लिये बिना उत्पाद को बाजार में उतारने के लिए और अपने खाद्य तेल को बेचने के लिए भ्रामक विज्ञापन चलाने के लिए एफएसएसएआइ ने उन्हें आड़े हाथों लिया था।

आपको बता दे की सेना ने अपने जवानों और अधिकारियों को सस्ता सामान उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 1948 में सीएसडी की स्थापना की थी। वर्तमान में यह संस्था अपने 34 डिपोट और 3,901 यूनिट के जरिये भारतीय सुरक्षा बलों से जुड़े 1.2 करोड़ लोगों को इस कैंटीन के जरिये 5,300 उत्पादों की बिक्री करती है।


कंज्यूमर प्रोडक्ट कंपनियों की कुल बिक्री में सीएसडी कैंटीन की हिस्सेदारी पांच से सात फीसदी के बीच है। आर्मी कैंटीन में पतंजलि के उत्पादों की अच्छी खासी बिक्री होती थी। एक उत्पाद के जांच में फेल होने के बाद कंपनी के अन्य उत्पादों की भी जांच हो सकती है, जिससे बाबा की कंपनी को बड़ी चपत लगने की आशंका है। 
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

CM योगी का ऐलान - बिजली चोरी बंद होते ही 24 घंटे रोशन रहेगा यूपी!

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस के मौके पर एक कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में वीआईपी राज को खत्म किया, उन्होंने लालबत्ती संस्कृति को खत्म कर दिया।

Image Source - livehindustan

योगी ने कहा कि बिजली मिलेगी तो सभी जिलों को मिलेगी, इसके साथ ही सभी ट्रांसफार्मरो के लिए हम जल्द ही हेल्पलाइन नंबर जारी करेंगे। योगी ने कहा कि 15 जून तक यूपी की सभी सड़कें गढ्ढा मुक्त होंगी।

इसके साथ ही योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बिजली सुधार के लिए कार्यक्रम में तेजी लाएंगे। लोगों को सुविधाओं देने पर जोर दे रहे हैं।

योगी ने कहा कि हम बीमारियों को दूर करने और स्वच्छता के काम में जनता भी हमारा साथ दे। योगी ने कहा कि स्वच्छता के लिए केंद्र सरकार भी पैसा दे रही है, ग्राम पंचायत इन पैसों का इस्तेमाल करे।

योगी ने यहां पर ऐलान किया कि हम लोग हर गरीब की झोपड़ी तक बिजली पहुंचाएंगे। योगी ने कहा कि पीएम ने भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ अभियान छेड़ा है, सभी ग्राम पंचायत को इसमें मदद करनी चाहिए। हर ग्राम पंचायत को कैशलेस काम करना चाहिए, इससे घूस मांगने की घटना में कमी आएगी। हमें आधुनिकता के साथ जुड़ना होगा।

बिजली चोरी को रोकना होगा :-


योगी ने कहा कि हमें 2018 के लक्ष्य को ध्यान में रखकर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि अब नई सरकार आने के बाद आपको कोई भी प्रताड़ित नहीं करेगा। योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी 71 जिलों को पूर्ण बिजली मिलेगी, योगी ने कहा कि अगर बिजली की चोरी रुकेगी तो सभी ग्रामीण इलाकों में भी 24 घंटे बिजली पहुंचेगी। 

नई दिल्ली : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को राष्ट्रीय पंचायत राज दिवस के मौके पर एक कार्यक्रम में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में वीआईपी राज को खत्म किया, उन्होंने लालबत्ती संस्कृति को खत्म कर दिया।

Image Source - livehindustan

योगी ने कहा कि बिजली मिलेगी तो सभी जिलों को मिलेगी, इसके साथ ही सभी ट्रांसफार्मरो के लिए हम जल्द ही हेल्पलाइन नंबर जारी करेंगे। योगी ने कहा कि 15 जून तक यूपी की सभी सड़कें गढ्ढा मुक्त होंगी।

इसके साथ ही योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बिजली सुधार के लिए कार्यक्रम में तेजी लाएंगे। लोगों को सुविधाओं देने पर जोर दे रहे हैं।

योगी ने कहा कि हम बीमारियों को दूर करने और स्वच्छता के काम में जनता भी हमारा साथ दे। योगी ने कहा कि स्वच्छता के लिए केंद्र सरकार भी पैसा दे रही है, ग्राम पंचायत इन पैसों का इस्तेमाल करे।

योगी ने यहां पर ऐलान किया कि हम लोग हर गरीब की झोपड़ी तक बिजली पहुंचाएंगे। योगी ने कहा कि पीएम ने भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ अभियान छेड़ा है, सभी ग्राम पंचायत को इसमें मदद करनी चाहिए। हर ग्राम पंचायत को कैशलेस काम करना चाहिए, इससे घूस मांगने की घटना में कमी आएगी। हमें आधुनिकता के साथ जुड़ना होगा।

बिजली चोरी को रोकना होगा :-


योगी ने कहा कि हमें 2018 के लक्ष्य को ध्यान में रखकर काम करना होगा। उन्होंने कहा कि अब नई सरकार आने के बाद आपको कोई भी प्रताड़ित नहीं करेगा। योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सभी 71 जिलों को पूर्ण बिजली मिलेगी, योगी ने कहा कि अगर बिजली की चोरी रुकेगी तो सभी ग्रामीण इलाकों में भी 24 घंटे बिजली पहुंचेगी। 
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.