Friday, 15 December 2017

इराक : ISIS और अलकायदा के 38 आतंकियों को दी गई फांसी!



नई दिल्ली : इराक में आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के मामलों में दोषी करार दिए गए 38 सुन्नी इस्लामिक आतंकवादियों को वीरवार को फांसी दे दी गई। इराक के न्याय एवं कानून मंत्रालय ने एक वक्तव्य जारी कर इस बात की जानकारी दी।


वक्तव्य के अनुसार इराक के दक्षिणी शहर नासीरिया की एक जेल में इन सभी 38 आतंकवादियों को फांसी दी गई। वक्तव्य के मुताबिक सभी दोषी इस्लामिक स्टेट के सदस्य थे। गौरतलब है कि इससे पहले 24 सितंबर को इराक में 42 सुन्नी आतंकवादियों को फांसी दे दी गई थी। 



नई दिल्ली : इराक में आतंकवादी गतिविधियों में शामिल होने के मामलों में दोषी करार दिए गए 38 सुन्नी इस्लामिक आतंकवादियों को वीरवार को फांसी दे दी गई। इराक के न्याय एवं कानून मंत्रालय ने एक वक्तव्य जारी कर इस बात की जानकारी दी।


वक्तव्य के अनुसार इराक के दक्षिणी शहर नासीरिया की एक जेल में इन सभी 38 आतंकवादियों को फांसी दी गई। वक्तव्य के मुताबिक सभी दोषी इस्लामिक स्टेट के सदस्य थे। गौरतलब है कि इससे पहले 24 सितंबर को इराक में 42 सुन्नी आतंकवादियों को फांसी दे दी गई थी। 
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Thursday, 14 December 2017

फालतू बातों पर ध्यान न दे, आपका धन बैंकों में सुरक्षित है : PM मोदी



नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बैंक खाता धारकों के भय को दूर करते हुए कहा कि बैंकों में जमा उनका धन सुरक्षित रहेगा और उनके हितों को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा।

फिक्की की सालाना बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ वर्गो द्वारा प्रस्तावित वित्तीय संकल्प और जमा बीमा (एफआरडीआई) विधेयक को लेकर अफवाहें फैलाई जा रही हैं कि इससे जमाकर्ताओं को नुकसान होगा। बैंक खाता धारकों के भय को दूर करते हुए कहा कि बैंकों में जमा उनका धन सुरक्षित रहेगा और उनके हितों को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा।

मोदी ने कहा, "सरकार बैंकिंग प्रणाली को नीतिगत पहलों के द्वारा दैनिक आधार पर मजबूत करने की कोशिश कर रही है। लेकिन सोशल मीडिया पर एफआरडीआई विधेयक के बारे में अफवाहें फैलाई जा रही हैं, जो कि वास्तविकता के ठीक उलट है। हम जमाकर्ताओं के साथ बैंकों के हितों की भी सुरक्षा करने की कोशिश कर रहे हैं।"

वे स्पष्ट रूप से एफआरडीआई विधेयक के जमानत प्रावधान का उल्लेख कर रहे थे, जिसमें वित्तीय संस्थाओं को संकट के दौरान खाता धारकों के जमा राशियों के प्रमुख हिस्से को जब्त करने की अनुमति दी जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि संप्रग (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार) ने देश की बैंकिंग प्रणाली को पूरी तरह से खराब कर दिया है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार की सबसे बड़ी देनदारी बैंकों का फंसा हुआ कर्ज (एनपीए) है।

मोदी ने कहा कि पिछली सरकार ने बैंकों पर दवाब डालकर प्रभावशाली लोगों को कर्ज दिलवाया और वहीं बैंकों का वह कर्ज अब फंसा हुआ है। उन्होंने कहा, "राष्ट्रमंडल घोटाला, 2जी घोटाला और कोयला घोटाला, और सबसे बड़ा घोटाला बैंकिग घोटाला, सभी पिछली संप्रग सरकार के दौरान ही हुए थे।"


उन्होंने कहा कि सरकार ऐसी प्रणाली बनाने पर काम कर रही है, जो पारदर्शी और संवेदनशील होगी। मोदी ने वस्तु एवं सेवा कर के बारे में कहा, "प्रणाली जितनी औपचारिक होगी, उससे गरीबों को उतना ही फायदा होगा। इससे बैंकों से ऋण मिलने में आसानी होगी, माल ढुलाई का खर्च बचेगा, जिससे व्यापार में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।"



नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को बैंक खाता धारकों के भय को दूर करते हुए कहा कि बैंकों में जमा उनका धन सुरक्षित रहेगा और उनके हितों को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा।

फिक्की की सालाना बैठक को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ वर्गो द्वारा प्रस्तावित वित्तीय संकल्प और जमा बीमा (एफआरडीआई) विधेयक को लेकर अफवाहें फैलाई जा रही हैं कि इससे जमाकर्ताओं को नुकसान होगा। बैंक खाता धारकों के भय को दूर करते हुए कहा कि बैंकों में जमा उनका धन सुरक्षित रहेगा और उनके हितों को किसी भी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाया जाएगा।

मोदी ने कहा, "सरकार बैंकिंग प्रणाली को नीतिगत पहलों के द्वारा दैनिक आधार पर मजबूत करने की कोशिश कर रही है। लेकिन सोशल मीडिया पर एफआरडीआई विधेयक के बारे में अफवाहें फैलाई जा रही हैं, जो कि वास्तविकता के ठीक उलट है। हम जमाकर्ताओं के साथ बैंकों के हितों की भी सुरक्षा करने की कोशिश कर रहे हैं।"

वे स्पष्ट रूप से एफआरडीआई विधेयक के जमानत प्रावधान का उल्लेख कर रहे थे, जिसमें वित्तीय संस्थाओं को संकट के दौरान खाता धारकों के जमा राशियों के प्रमुख हिस्से को जब्त करने की अनुमति दी जाएगी। प्रधानमंत्री ने कहा कि संप्रग (संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार) ने देश की बैंकिंग प्रणाली को पूरी तरह से खराब कर दिया है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकार की सबसे बड़ी देनदारी बैंकों का फंसा हुआ कर्ज (एनपीए) है।

मोदी ने कहा कि पिछली सरकार ने बैंकों पर दवाब डालकर प्रभावशाली लोगों को कर्ज दिलवाया और वहीं बैंकों का वह कर्ज अब फंसा हुआ है। उन्होंने कहा, "राष्ट्रमंडल घोटाला, 2जी घोटाला और कोयला घोटाला, और सबसे बड़ा घोटाला बैंकिग घोटाला, सभी पिछली संप्रग सरकार के दौरान ही हुए थे।"


उन्होंने कहा कि सरकार ऐसी प्रणाली बनाने पर काम कर रही है, जो पारदर्शी और संवेदनशील होगी। मोदी ने वस्तु एवं सेवा कर के बारे में कहा, "प्रणाली जितनी औपचारिक होगी, उससे गरीबों को उतना ही फायदा होगा। इससे बैंकों से ऋण मिलने में आसानी होगी, माल ढुलाई का खर्च बचेगा, जिससे व्यापार में प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी।"
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Wednesday, 13 December 2017

पानी की बोतल पर MRP से ज्यादा वसूल सकते हैं होटल : सुप्रीम कोर्ट



नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर से होटल व रेस्टोरेंट में मिनरल वॉटर और पैकेज्ड फूड को उसकी एमआरपी से अधिक कीमत पर बेचने की इजाजत दे दी है। 

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की दलील को खारिज कर दिया है जिसमे कहा गया है एमआरपी से अधिक कीमत वसूलना लीगल मेट्रोलॉजी एक्ट के तहत अपराध है, जिसके चलते 25000 रुपए का जुर्माना और जेल हो सकती है। जस्टिस रोहिंटन नरीमन की बेंच ने अपने फैसले में कहा कि यह कानून होटल और रेस्टोरेंट पर लागू नहीं होगा, लिहाजा इसकी वजह से उन्हे अपराधी नहीं घोषित किया जा सकता है।

जस्टिस नरीमन ने कहा कि यह साधारण बिक्री का मामला नहीं है, कोई भी होटल में सिर्फ पानी खरीदने और लेने के लिए नहीं जाता है। कोर्ट ने होटल एंड रेस्टोरेंट एसेसिएशन ऑफ इंडिया की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया। एडवोकेट समीर पारिख होटल एसोसिएशन की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए, उन्होने कहा कि यह नियम होटल और रेस्टोरेंट पर लागू नहीं होता क्योंकि इसमे सर्विस, लोगों को बेहतर सुविधा, बेहतर माहौल उपलब्ध कराया जाता है।

आपको बता दें कि कंज्यूमर अफेयर मंत्रालय ने एक शपथपत्र दायर करके कहा था कि एमआरपी से अधिक कीमत पर बेचने पर टैक्स की चोरी हो सकती है, जिससे सरकार को राजस्व का नुकसान होता है। सरकार का कहना है कि अगर एमआरपी से अधिक कीमत पर सामान बेचा जाता है तो उसपर सरकार को टैक्स नहीं मिलता है, जिससे राजस्व की हानि होती है। सरकार का कहना है कि पानी की बोतल होटल कॉस्ट प्राइस पर खरीदता है और उसे एमआरपी पर बेचना चाहिए, लेकिन इसे तय कीमत से कहीं अधिक कीमत पर बेचा जाता है, जिससे काफी राजस्व की हानि होती है।


गौरतलब है कि पानी की बोतल की बिक्री का मुद्दा 2003 में काफी बहस का मुद्दा बना था, जब होटल एसोसिएशन ने इससे जुड़े कानून को दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। 2007 में हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि होटल और रेस्टोरेंट पानी की बोदल एमआरपी से अधिक कीमत पर नहीं बेच सकते हैं। जिसके बाद एसोसिएशन ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को होटल एसोसिएशन के पक्ष में फैसला सुनाया।



नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने एक बार फिर से होटल व रेस्टोरेंट में मिनरल वॉटर और पैकेज्ड फूड को उसकी एमआरपी से अधिक कीमत पर बेचने की इजाजत दे दी है। 

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार की दलील को खारिज कर दिया है जिसमे कहा गया है एमआरपी से अधिक कीमत वसूलना लीगल मेट्रोलॉजी एक्ट के तहत अपराध है, जिसके चलते 25000 रुपए का जुर्माना और जेल हो सकती है। जस्टिस रोहिंटन नरीमन की बेंच ने अपने फैसले में कहा कि यह कानून होटल और रेस्टोरेंट पर लागू नहीं होगा, लिहाजा इसकी वजह से उन्हे अपराधी नहीं घोषित किया जा सकता है।

जस्टिस नरीमन ने कहा कि यह साधारण बिक्री का मामला नहीं है, कोई भी होटल में सिर्फ पानी खरीदने और लेने के लिए नहीं जाता है। कोर्ट ने होटल एंड रेस्टोरेंट एसेसिएशन ऑफ इंडिया की याचिका पर सुनवाई करते हुए यह फैसला दिया। एडवोकेट समीर पारिख होटल एसोसिएशन की ओर से सुप्रीम कोर्ट में पेश हुए, उन्होने कहा कि यह नियम होटल और रेस्टोरेंट पर लागू नहीं होता क्योंकि इसमे सर्विस, लोगों को बेहतर सुविधा, बेहतर माहौल उपलब्ध कराया जाता है।

आपको बता दें कि कंज्यूमर अफेयर मंत्रालय ने एक शपथपत्र दायर करके कहा था कि एमआरपी से अधिक कीमत पर बेचने पर टैक्स की चोरी हो सकती है, जिससे सरकार को राजस्व का नुकसान होता है। सरकार का कहना है कि अगर एमआरपी से अधिक कीमत पर सामान बेचा जाता है तो उसपर सरकार को टैक्स नहीं मिलता है, जिससे राजस्व की हानि होती है। सरकार का कहना है कि पानी की बोतल होटल कॉस्ट प्राइस पर खरीदता है और उसे एमआरपी पर बेचना चाहिए, लेकिन इसे तय कीमत से कहीं अधिक कीमत पर बेचा जाता है, जिससे काफी राजस्व की हानि होती है।


गौरतलब है कि पानी की बोतल की बिक्री का मुद्दा 2003 में काफी बहस का मुद्दा बना था, जब होटल एसोसिएशन ने इससे जुड़े कानून को दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी थी। 2007 में हाई कोर्ट ने अपने फैसले में कहा था कि होटल और रेस्टोरेंट पानी की बोदल एमआरपी से अधिक कीमत पर नहीं बेच सकते हैं। जिसके बाद एसोसिएशन ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को होटल एसोसिएशन के पक्ष में फैसला सुनाया।
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Monday, 11 December 2017

झारखंड में पहली बार चुंबन प्रतियोगिता, सबसे देर तक KISS करने वाले 3 जोड़े बने विजेता!



नई दिल्ली : बिहार-झारखंड बॉर्डर पर पाकुर जिले में एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां गांव के लोग खुलेआम सबके सामने अपने पार्टनर को चूमने लगे। एक विधायक की मौजूदगी में यह सब किया गया।

झारखंड के लिट्टीपाड़ा में हर साल एक मेले का आयोजन होता है, जिसमें नाचने और गाने के साथ ही अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। मगर, इस बार मेले में चुंबन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जहां खुलेआम विवाहित जोड़ों ने घंटों तक एक दूसरे को किस किया और इसमें काफी देर तक KISS लेने वाले विवाहित जोड़े को पुरस्कृत भी किया गया।

इसका आयोजन झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ विधायक साइमन मरांडी की उपस्थिति में हुई, जिसमें विवाहित जोड़ों ने खुलेआम एक-दूसरे को KISS किया। इस इलाके में आदिवासियों की संख्या काफी अधिक है। मरांडी ने कहा कि आदिवासी लोग बुनियादी रूप से मासूम और अशिक्षित होते हैं। इसके चलते उनका फैमिली सिस्टम कमजोर हो रहा है। उन्हें सामाजिक रूप से जागरुक करने और परिवार के प्रति जिम्मेदारी का एहसास करने के लिए चुंबन प्रतियोगिता रखी गई थी।


सिदो-कान्हू मेले में हो रहे चुंबन प्रतियोगिता को देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई। पहली बार हुई इस चुंबन प्रतियोगिता में 18 जोड़ों ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतियोगी ने हजारों लोगों की मौजूदगी में बेझिझक अपनी-अपनी पत्नी को घंटों तक चूमा और सबसे ज्यादा लंबे समय तक चुंबन लेने वाले तीन जोड़ों को पुरस्कृत भी किया गया।



नई दिल्ली : बिहार-झारखंड बॉर्डर पर पाकुर जिले में एक अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। यहां गांव के लोग खुलेआम सबके सामने अपने पार्टनर को चूमने लगे। एक विधायक की मौजूदगी में यह सब किया गया।

झारखंड के लिट्टीपाड़ा में हर साल एक मेले का आयोजन होता है, जिसमें नाचने और गाने के साथ ही अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं। मगर, इस बार मेले में चुंबन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जहां खुलेआम विवाहित जोड़ों ने घंटों तक एक दूसरे को किस किया और इसमें काफी देर तक KISS लेने वाले विवाहित जोड़े को पुरस्कृत भी किया गया।

इसका आयोजन झारखंड मुक्ति मोर्चा के वरिष्ठ विधायक साइमन मरांडी की उपस्थिति में हुई, जिसमें विवाहित जोड़ों ने खुलेआम एक-दूसरे को KISS किया। इस इलाके में आदिवासियों की संख्या काफी अधिक है। मरांडी ने कहा कि आदिवासी लोग बुनियादी रूप से मासूम और अशिक्षित होते हैं। इसके चलते उनका फैमिली सिस्टम कमजोर हो रहा है। उन्हें सामाजिक रूप से जागरुक करने और परिवार के प्रति जिम्मेदारी का एहसास करने के लिए चुंबन प्रतियोगिता रखी गई थी।


सिदो-कान्हू मेले में हो रहे चुंबन प्रतियोगिता को देखने के लिए लोगों की भारी भीड़ जमा हो गई। पहली बार हुई इस चुंबन प्रतियोगिता में 18 जोड़ों ने हिस्सा लिया। प्रतियोगिता में भाग लेने वाले प्रतियोगी ने हजारों लोगों की मौजूदगी में बेझिझक अपनी-अपनी पत्नी को घंटों तक चूमा और सबसे ज्यादा लंबे समय तक चुंबन लेने वाले तीन जोड़ों को पुरस्कृत भी किया गया।
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

कहां-कहां हुआ आपके आधार का यूज, ऐसे करें पता!



नई दिल्ली : क्या आप जानते हैं आपके आधार कार्ड को किस प्रकार से इस्तेमाल किया जा रहा है। सरकार ने आधार कार्ड को धीरे-धीरे सभी सेवाओं से जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। आपके मोबाइल का सिम या फिर एलपीजी गैस सब्सिडी। इतना ही नहीं बल्कि अब तो सरकारी स्कूलों में मिलने वाला वजीफा तक को आधार कार्ड से जोड़ दिया गया है। इसके कुछ फायदे हैं तो वहीं कुछ नुकसान भी हैं।

इससे एक फायदा सभी को हुआ है, कई जगहों पर भ्रष्टाचार कम हो गया है। साथ ही डाटा लिंक होने और आपके आधार के गलत इस्तेमाल होने का खतरा भी बढ़ गया है। इसलिए आपका यह जानना जरूरी है कि आप के आधार कार्ड का कहा कहा इस्तेमाल किया जा रहा है। इस जानकारी को पाने के लिए आपको कुछ स्टेप्स पूरे करने होंगे जिसके बाद आप को यह जानकारी मिल जाएगी।


आप सबसे पहले https://residentuidai.gov.in पेज पर जाएं। वहां पर ”Aadhaar Authentication History” पर जाएं। इसके बाद इसमें अपना आधार नंबर और उसमे बना सिक्योरिटी कोड डाल दे। इसके बाद ओटीपी जनरेट करने के लिए क्लिक कर दें। यह आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा। ओटीपी कोड डालने के बाद आपको आपके आधार कार्ड की सभी डिटेल मिल जाएगी, लेकिन इससे पहले आपको इसके लिए एक समय सीमा भी बतानी पड़ेगी। आपको इसमें किसी भी प्रकार की गड़बड़ नजर आती है तो आप कर सकते हैं। आप के आधार को ऑनलाइन लॉबी किया जा सकता है।



नई दिल्ली : क्या आप जानते हैं आपके आधार कार्ड को किस प्रकार से इस्तेमाल किया जा रहा है। सरकार ने आधार कार्ड को धीरे-धीरे सभी सेवाओं से जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। आपके मोबाइल का सिम या फिर एलपीजी गैस सब्सिडी। इतना ही नहीं बल्कि अब तो सरकारी स्कूलों में मिलने वाला वजीफा तक को आधार कार्ड से जोड़ दिया गया है। इसके कुछ फायदे हैं तो वहीं कुछ नुकसान भी हैं।

इससे एक फायदा सभी को हुआ है, कई जगहों पर भ्रष्टाचार कम हो गया है। साथ ही डाटा लिंक होने और आपके आधार के गलत इस्तेमाल होने का खतरा भी बढ़ गया है। इसलिए आपका यह जानना जरूरी है कि आप के आधार कार्ड का कहा कहा इस्तेमाल किया जा रहा है। इस जानकारी को पाने के लिए आपको कुछ स्टेप्स पूरे करने होंगे जिसके बाद आप को यह जानकारी मिल जाएगी।


आप सबसे पहले https://residentuidai.gov.in पेज पर जाएं। वहां पर ”Aadhaar Authentication History” पर जाएं। इसके बाद इसमें अपना आधार नंबर और उसमे बना सिक्योरिटी कोड डाल दे। इसके बाद ओटीपी जनरेट करने के लिए क्लिक कर दें। यह आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर आएगा। ओटीपी कोड डालने के बाद आपको आपके आधार कार्ड की सभी डिटेल मिल जाएगी, लेकिन इससे पहले आपको इसके लिए एक समय सीमा भी बतानी पड़ेगी। आपको इसमें किसी भी प्रकार की गड़बड़ नजर आती है तो आप कर सकते हैं। आप के आधार को ऑनलाइन लॉबी किया जा सकता है।
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Sunday, 10 December 2017

साबरमती नदी में मिली बुमराह के दादा की लाश!



नई दिल्ली : भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के दादा संतोष सिंह बुमराह की लाश गुजरात की साबरमती नदी में मिली है।  84 साल के संतोष सिंह बुमराह उत्तराखंड से अहमदाबाद अपने पोते से मिलने के लिए पहुंचे थे। लेकिन जसप्रीत बुमराह से उनकी मुलाकात नहीं हो पाई थी।

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के दादा संतोष सिंह बुमराह (84) के लापता होने की खबर आई थी। ऐसा बताया जाता है कि पोते से मिलने के लिए वह उत्तराखंड से अहमदाबाद पहुंचे थे जो अभी तक वापस घर नहीं पहुंचे।

हालांकि संतोष सिंह के अभी तक घर वापस नहीं पहुंचने पर पुलिस ने मामले में उनके गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कर ली है और उन्हें खोजने के लिए एक टीम का गठन कर दिया गया है। पुलिस में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार संतोष सिंह ने शुक्रवार करीब 1:30 बजे दलजीत से पोते से मिलने के लिए दलजीत से गुहार लगाई थी।


लेकिन उन्हें पोते से मिलने या बात करने की अनुमति नहीं दी गई। संतोष सिंह की बेटी राजिंदर कौर ने मीडिया को बताया कि उनके पिता जसप्रीत से एक बार मिलना चाहते थे। इससे पहले भी उन्होंने कई बार पोते से मिलने की कोशिश की लेकिन अनुमति नहीं मिली। बता दें कि इन दिनों संतोष सिंह बुमराह की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है। वह उधमसिंह नगर के किच्छा में एक किराए के मकान में रहते हैं।



नई दिल्ली : भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के दादा संतोष सिंह बुमराह की लाश गुजरात की साबरमती नदी में मिली है।  84 साल के संतोष सिंह बुमराह उत्तराखंड से अहमदाबाद अपने पोते से मिलने के लिए पहुंचे थे। लेकिन जसप्रीत बुमराह से उनकी मुलाकात नहीं हो पाई थी।

भारतीय टीम के तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह के दादा संतोष सिंह बुमराह (84) के लापता होने की खबर आई थी। ऐसा बताया जाता है कि पोते से मिलने के लिए वह उत्तराखंड से अहमदाबाद पहुंचे थे जो अभी तक वापस घर नहीं पहुंचे।

हालांकि संतोष सिंह के अभी तक घर वापस नहीं पहुंचने पर पुलिस ने मामले में उनके गुमशुदा होने की रिपोर्ट दर्ज कर ली है और उन्हें खोजने के लिए एक टीम का गठन कर दिया गया है। पुलिस में दर्ज रिपोर्ट के अनुसार संतोष सिंह ने शुक्रवार करीब 1:30 बजे दलजीत से पोते से मिलने के लिए दलजीत से गुहार लगाई थी।


लेकिन उन्हें पोते से मिलने या बात करने की अनुमति नहीं दी गई। संतोष सिंह की बेटी राजिंदर कौर ने मीडिया को बताया कि उनके पिता जसप्रीत से एक बार मिलना चाहते थे। इससे पहले भी उन्होंने कई बार पोते से मिलने की कोशिश की लेकिन अनुमति नहीं मिली। बता दें कि इन दिनों संतोष सिंह बुमराह की आर्थिक स्थिति बहुत खराब है। वह उधमसिंह नगर के किच्छा में एक किराए के मकान में रहते हैं।
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

CRPF के जवान ने अपने साथियों पर बरसाई गोलियां, 4 की मौत!



नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में शनिवार शाम सीआरपीएफ के एक शिविर में एक जवान द्वारा की गई गोलीबारी में चार जवान शहीद हो गए, जबकि एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया है। घायल जवान को प्राथमिक उपचार के बाद विशेष उपचार के लिए रायपुर रेफर कर दिया गया है।

डीआईजी पी। सुंदरराज ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा, "यह घटना बीजापुर जिले के बासागुड़ा शिविर में घटित हुई है। सीआरपीएफ की 168वीं बटालियन के आरक्षक संतकुमार ने अपने साथियों पर ताबड़तोड़ गोलीबारी कर दी, जिसमें एसआई वी.के. शर्मा, एसआई मेघसिंह, एएसआई राजवीर और आरक्षक जी.एस. राव की मौके पर मौत हो गई। वहीं एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया।"


सुंदरराज ने कहा कि इस बात की सूक्ष्मता और तत्परता से पड़ताल की जा रही है कि संतकुमार ने यह कदम क्यों उठाया। उन्होंने कहा कि हत्या के आरोपी कांस्टेबल संतकुमार को हिरासत में ले लिया गया है, और उससे पूछताछ की जा रही है।



नई दिल्ली : छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में शनिवार शाम सीआरपीएफ के एक शिविर में एक जवान द्वारा की गई गोलीबारी में चार जवान शहीद हो गए, जबकि एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया है। घायल जवान को प्राथमिक उपचार के बाद विशेष उपचार के लिए रायपुर रेफर कर दिया गया है।

डीआईजी पी। सुंदरराज ने घटना की पुष्टि करते हुए कहा, "यह घटना बीजापुर जिले के बासागुड़ा शिविर में घटित हुई है। सीआरपीएफ की 168वीं बटालियन के आरक्षक संतकुमार ने अपने साथियों पर ताबड़तोड़ गोलीबारी कर दी, जिसमें एसआई वी.के. शर्मा, एसआई मेघसिंह, एएसआई राजवीर और आरक्षक जी.एस. राव की मौके पर मौत हो गई। वहीं एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया।"


सुंदरराज ने कहा कि इस बात की सूक्ष्मता और तत्परता से पड़ताल की जा रही है कि संतकुमार ने यह कदम क्यों उठाया। उन्होंने कहा कि हत्या के आरोपी कांस्टेबल संतकुमार को हिरासत में ले लिया गया है, और उससे पूछताछ की जा रही है।
हमारे Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.