Friday, 9 December 2016

अगर मैं बोला तो भूकंप आ जाएगा : राहुल गाँधी

नई दिल्ली : नोटबंदी को लेकर संसद हंगामा जारी है। आज भी इस मुद्दे पर संसद में चर्चा नहीं हो पाई है। सरकार ने इसके लिए विपक्ष से माफी की मांग की है तो वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार के इस फैसले को लेकर बड़ा  आरोप लगाया है।



राहुल गाँधी ने कहा, ‘ये हिन्दुस्तान के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला है। ये सारी की सारी बातें मैं संसद में बोलुंगा तो मोदी जी बैठ नहीं पाएंगे।और जब उनसे पूछा गया कि क्या उनको बोलने से रोका जा रहा है?

तो राहुल ने कहा, ‘हां, मुझे बोलने से रोका जा रहा है। मैं पिछले एक महीने से बोलना चाहता हूं। सरकार ने चर्चा कराने के लिए कहा था लेकिन अब सरकार अपने वादे से पीछे हट गई।

और इसके साथ ही पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल ने पूछा, ‘प्रधानमंत्री पूरे देश में भाषण दे रहे हैं मगर लोकसभा में आने से डरते हैं। इतनी घबराहट क्यों?’

उन्होंने कहा, ‘मैं सदन में चर्चा करना चाहता हूं। जो गरीब लोगों के दिल में है वो बात कहना चाहता हूं और ये जो नरेंद्र मोदी जी ने अकेले हिन्दुस्तान का सबसे बड़ा घोटाला किया है। उसके बारे में सबको बताना चाहता हूं और मुझे ऐसा करने से रोका जा रहा है।

इसके साथ ही राहुल यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि अगर उन्हें संसद में बोलने दिया जाता है तो सब देखेंगे कैसा भूकंप आता है।

कल ही वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कैशलेस ट्रांजेक्शन पर बड़ी छूट देने का ऐलान किया है। इस पर राहुल गांधी ने कहा, ‘पहले ये लोग काउंटर फीट की ओर दौड़े, इसके बाद कैशलेस की तरफ गए।


मैं कहता हूं संसद के अंदर आकर हमारे साथ बात करिए देश को पूरा पता चल जाएगा नोटबंदी क्या है, इससे फायदा मिला, किसकी मदद हो रही है, किसका नुकसान हो रहा है और ये क्यों किया गया है?’

नई दिल्ली : नोटबंदी को लेकर संसद हंगामा जारी है। आज भी इस मुद्दे पर संसद में चर्चा नहीं हो पाई है। सरकार ने इसके लिए विपक्ष से माफी की मांग की है तो वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार के इस फैसले को लेकर बड़ा  आरोप लगाया है।



राहुल गाँधी ने कहा, ‘ये हिन्दुस्तान के इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला है। ये सारी की सारी बातें मैं संसद में बोलुंगा तो मोदी जी बैठ नहीं पाएंगे।और जब उनसे पूछा गया कि क्या उनको बोलने से रोका जा रहा है?

तो राहुल ने कहा, ‘हां, मुझे बोलने से रोका जा रहा है। मैं पिछले एक महीने से बोलना चाहता हूं। सरकार ने चर्चा कराने के लिए कहा था लेकिन अब सरकार अपने वादे से पीछे हट गई।

और इसके साथ ही पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए राहुल ने पूछा, ‘प्रधानमंत्री पूरे देश में भाषण दे रहे हैं मगर लोकसभा में आने से डरते हैं। इतनी घबराहट क्यों?’

उन्होंने कहा, ‘मैं सदन में चर्चा करना चाहता हूं। जो गरीब लोगों के दिल में है वो बात कहना चाहता हूं और ये जो नरेंद्र मोदी जी ने अकेले हिन्दुस्तान का सबसे बड़ा घोटाला किया है। उसके बारे में सबको बताना चाहता हूं और मुझे ऐसा करने से रोका जा रहा है।

इसके साथ ही राहुल यहीं नहीं रुके उन्होंने आगे कहा कि अगर उन्हें संसद में बोलने दिया जाता है तो सब देखेंगे कैसा भूकंप आता है।

कल ही वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कैशलेस ट्रांजेक्शन पर बड़ी छूट देने का ऐलान किया है। इस पर राहुल गांधी ने कहा, ‘पहले ये लोग काउंटर फीट की ओर दौड़े, इसके बाद कैशलेस की तरफ गए।


मैं कहता हूं संसद के अंदर आकर हमारे साथ बात करिए देश को पूरा पता चल जाएगा नोटबंदी क्या है, इससे फायदा मिला, किसकी मदद हो रही है, किसका नुकसान हो रहा है और ये क्यों किया गया है?’
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

जयललिता के निधन के बाद उनकी 10500 साड़ी, 750 चप्पल और 500 शराब के ग्लास कोर्ट में!

नई दिल्ली : तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के निधन के बाद, उन पर चल रहे आय से अधिक केस भी खत्म हो गया है, लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि कर्नाटक कोर्ट में जब्त उनकी 10,500 साड़ियां, 750 चप्पलें और 500 शराब के गिलासों क्या होगा।



जयललिता के निधन के बाद उनकी पार्टी चाहती है कि जयललिता से जुड़ी इन सभी सामानों को पार्टी को वापस कर दिया जाए, ताकि पार्टी उसका इस्तेमाल म्यूजियम में कर सके। इसको लेकर एआईएडीएमके के नेताओं को उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट जल्द ही इस फैसले पर सुनवाई करेगा।

साथ ही कोर्ट द्वारा जब्त सभी संपत्ति और सामन को वापस करेगा, ताकि एआईएडीएमके के नेता उन्हें जयललिता की याद को तौर पर संग्रहालय में रख सके। उम्मीद है कि अवैध संपत्ति के इस मामले पर फैसला जून 2017 तक आ जाएगा। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री की मौत के बाद तमिलनाडु सरकार ने फैसला किया है कि वह फैसले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में ज्ञापन भी देगी, जिससे मामले की सुनवाई जल्दी हो सकते।

कर्नाटक कोर्ट के वकील का कहना है कि अगर कोर्ट जयललिता को दोषी पाता है तो उनकी सारी संपत्ति कोर्ट में जब्त रहेगी, और अगर वह दोषमुक्त होती है तो अदालत उनके उत्ताधिकारी को इनका सामान सौंप देगी।

गौरतलब हो कि 1996 से जयललिता पर आय से अधिक संपत्ती का मामला चल रहा है। आयकर विभाग की छापेमारी में 10,500 साड़ियां, 750 चप्पलें और 500 शराब के गिलास के साथ लगभग 21.28 किलो सोने की ज्वैलरी बरामद कीजिनकी कीमत लगभग 3.5 करोड़ रूपये है, इसके अलावा 1,250 किलों चांदी के सामान भी मिला जिनकी कीमत लगभग 2 करोड़ रूपये है। इन सभी सामान की निगरानी कर्नाटक पुलिस की सुरक्षा में कर्नाटक के सिविल कोर्ट में की जा रही है।

बताया जा रहा है कि इस केस की सुनवाई के लिए जयललिता ने तमिलनाडु कोर्ट से अनुरोध किया था कि डीएमके की सत्ता के दौरान उनके केस की सुनवाई तमिलनाडु कोर्ट में न हो। जिसको लेकर बीजेपी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने अदालत में एक ज्ञापन सौंपा था और उसके बाद उनका केस कर्नाटक की विशेष अदालत में चला गया।


विशेष कोर्ट ने उन्हें 2014 में दोषी माना था, वहीं कर्नाटक हाई कोर्ट ने 2015 में विशेष अदालत के फैसला को बदल दिया था। जिसके बाद कर्नाटक सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। जब से फैसला विचाराधीन है। एआईएडीएमके के नेताओं को उम्मीद है कि इस पर जून 2017 तक कोर्ट अपना फैसला सुना देगा। 

नई दिल्ली : तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के निधन के बाद, उन पर चल रहे आय से अधिक केस भी खत्म हो गया है, लेकिन सबसे बड़ा सवाल है कि कर्नाटक कोर्ट में जब्त उनकी 10,500 साड़ियां, 750 चप्पलें और 500 शराब के गिलासों क्या होगा।



जयललिता के निधन के बाद उनकी पार्टी चाहती है कि जयललिता से जुड़ी इन सभी सामानों को पार्टी को वापस कर दिया जाए, ताकि पार्टी उसका इस्तेमाल म्यूजियम में कर सके। इसको लेकर एआईएडीएमके के नेताओं को उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट जल्द ही इस फैसले पर सुनवाई करेगा।

साथ ही कोर्ट द्वारा जब्त सभी संपत्ति और सामन को वापस करेगा, ताकि एआईएडीएमके के नेता उन्हें जयललिता की याद को तौर पर संग्रहालय में रख सके। उम्मीद है कि अवैध संपत्ति के इस मामले पर फैसला जून 2017 तक आ जाएगा। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री की मौत के बाद तमिलनाडु सरकार ने फैसला किया है कि वह फैसले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में ज्ञापन भी देगी, जिससे मामले की सुनवाई जल्दी हो सकते।

कर्नाटक कोर्ट के वकील का कहना है कि अगर कोर्ट जयललिता को दोषी पाता है तो उनकी सारी संपत्ति कोर्ट में जब्त रहेगी, और अगर वह दोषमुक्त होती है तो अदालत उनके उत्ताधिकारी को इनका सामान सौंप देगी।

गौरतलब हो कि 1996 से जयललिता पर आय से अधिक संपत्ती का मामला चल रहा है। आयकर विभाग की छापेमारी में 10,500 साड़ियां, 750 चप्पलें और 500 शराब के गिलास के साथ लगभग 21.28 किलो सोने की ज्वैलरी बरामद कीजिनकी कीमत लगभग 3.5 करोड़ रूपये है, इसके अलावा 1,250 किलों चांदी के सामान भी मिला जिनकी कीमत लगभग 2 करोड़ रूपये है। इन सभी सामान की निगरानी कर्नाटक पुलिस की सुरक्षा में कर्नाटक के सिविल कोर्ट में की जा रही है।

बताया जा रहा है कि इस केस की सुनवाई के लिए जयललिता ने तमिलनाडु कोर्ट से अनुरोध किया था कि डीएमके की सत्ता के दौरान उनके केस की सुनवाई तमिलनाडु कोर्ट में न हो। जिसको लेकर बीजेपी के नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने अदालत में एक ज्ञापन सौंपा था और उसके बाद उनका केस कर्नाटक की विशेष अदालत में चला गया।


विशेष कोर्ट ने उन्हें 2014 में दोषी माना था, वहीं कर्नाटक हाई कोर्ट ने 2015 में विशेष अदालत के फैसला को बदल दिया था। जिसके बाद कर्नाटक सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। जब से फैसला विचाराधीन है। एआईएडीएमके के नेताओं को उम्मीद है कि इस पर जून 2017 तक कोर्ट अपना फैसला सुना देगा। 
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

हम भारत के साथ लगातार युद्ध जैसे हालात नहीं चाहते : बासित

नई दिल्ली : पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दे गंभीर हैं, जिन पर बात होनी चाहिए।



बासित ने कहा कि हम दो देशों के बीच गंभीर समस्याएं हैं, हम उनसे भाग नहीं सकते।' साथ ही उन्होंने कहा कि मुद्दों पर व्यापक बातचीत के लिए उनकी सरकार तैयार है लेकिन इसके लिए भारत को भी तैयार होना पड़ेगा।

बासित ने कहा कि पाकिस्तान लगातार युद्ध जैसी स्थिति में नहीं रहना चाहता। हमारा रुख सकारात्मक है लेकिन इसके लिए दोनों को आगे आना होगा।

भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा रिश्तों को सुधारने के लिए आगे बढ़ने की बात करते हुए अब्दुल बासित ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि हम अपना मन बना लें कि हमें यथास्थिति में बने रहना है या अपने रिश्तों में नई शुरुआत लानी है।


उल्लेखनीय है कि इस साल जनवरी में पठानकोट में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने ये कहते हुए दोनों देशों के बीच किसी भी तरह बातचीत पर रोक लगा दी कि पहले पाकिस्तान इसके खिलाफ एक्शन ले।

नई दिल्ली : पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मुद्दे गंभीर हैं, जिन पर बात होनी चाहिए।



बासित ने कहा कि हम दो देशों के बीच गंभीर समस्याएं हैं, हम उनसे भाग नहीं सकते।' साथ ही उन्होंने कहा कि मुद्दों पर व्यापक बातचीत के लिए उनकी सरकार तैयार है लेकिन इसके लिए भारत को भी तैयार होना पड़ेगा।

बासित ने कहा कि पाकिस्तान लगातार युद्ध जैसी स्थिति में नहीं रहना चाहता। हमारा रुख सकारात्मक है लेकिन इसके लिए दोनों को आगे आना होगा।

भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा रिश्तों को सुधारने के लिए आगे बढ़ने की बात करते हुए अब्दुल बासित ने कहा कि अब वक्त आ गया है कि हम अपना मन बना लें कि हमें यथास्थिति में बने रहना है या अपने रिश्तों में नई शुरुआत लानी है।


उल्लेखनीय है कि इस साल जनवरी में पठानकोट में हुए आतंकी हमले के बाद भारत ने ये कहते हुए दोनों देशों के बीच किसी भी तरह बातचीत पर रोक लगा दी कि पहले पाकिस्तान इसके खिलाफ एक्शन ले।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Thursday, 8 December 2016

डिजिटल पेमेंट पर बड़ा डिस्काउंट - टिकट, बीमा और पेट्रोल-डीजल सस्ते!

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा देश में कैशलेस सिस्टम और डिजिटल पेमेंट व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कई प्रमुख घोषणाएं की गयी हैं। डिजिटल पेमेंट करने वालों को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 0.75 फीसदी की छूट दी जाएगी।



और यही नहीं, रेलवे टिकट, बीमा प्रीमियम, टोल प्लाजा, रेलवे सुविधाओं आदि कई जगहों पर डिजिटल पेमेंट करने पर छूट की घोषणा की गई है। वित्त मंत्री ने बताया कि अब पेट्रोल-डीजल की 40 फीसदी खरीद कैशलेस तरीके से हो रही है। सरकार अर्थव्यवस्था में कैश का फ्लो कम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

सरकार की अहम घोषणाएं इस प्रकार है....

# हर 10 हजार से ज्यादा आबादी वाले गांव में दो पीओएस यानी प्वाइंट ऑफ सेल लगाए जाएंगे। ऐसे करीब एक लाख गांवों का चयन किया जाएगा।

# ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए स्वाइप मशीन और माइक्रो एटीएम को बढ़ावा दिया जाएगा।

# देश में करीब 4.32 करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल किए जाते हैं, इन सभी को नाबार्ड द्वारा रुपे कार्ड दिया जाएगा।

# शहरी क्षेत्रों में मंथली-सीजनल टिकट डिजिटल तरीके से लेने वालों को 0.5 फीसदी का डिस्काउंट दिया जाएगा। इसे सबसे पहले मुंबई में लागू किया जाएगा।

# ऑनलाइन रेलवे टिकट लेने वालों को 10 लाख रुपये का अलग से एक्सीडेंटल बीमा कवर दिया जाएगा।

# रेलवे की कैटरिंग, रिटायरिंग रूम्स जैसी सुविधाओं के लिए डिजिटल पेमेंट करने वाले को 5 फीसदी की छूट दी जाएगी।

# देश भर के सभी टोल प्लाजा पर डिजिटल पेमेंट के द्वारा आरएफआइडी और फास्टैग कार्ड लेने पर 10 फीसदी की छूट दी जाएगी।

# सरकारी क्षेत्र की बीमा कंपनियों के कस्टमर पोर्टल से इंश्योरेंस लेने पर और प्रीमियम देने पर जनरल इंश्योरेंस पर 10 प्रतिशत की छूट दी जाएगी और लाइफ इंश्योरेंस पर 8 प्रतिशत की छूट मिलेगी।

# केंद्रीय विभाग और पीएसयू सुनिश्चित करेंगे कि ट्रांजैक्शन फीस और एमटीआर चार्जेज का बोझ न पड़े।

# पीएसयू बैंक यह सुनिश्चित करेंगे कि माइक्रो, एटीएम, पीओएस टर्मिनल और मोबाइल पीओएस का किराया 100 रुपये से अधिक न हो।


# 2000 रुपये के सभी डिजिटल ट्रांजैक्शंस पर सर्विस टैक्स लागू नहीं होगा।

नई दिल्ली : केंद्र सरकार द्वारा देश में कैशलेस सिस्टम और डिजिटल पेमेंट व्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कई प्रमुख घोषणाएं की गयी हैं। डिजिटल पेमेंट करने वालों को पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 0.75 फीसदी की छूट दी जाएगी।



और यही नहीं, रेलवे टिकट, बीमा प्रीमियम, टोल प्लाजा, रेलवे सुविधाओं आदि कई जगहों पर डिजिटल पेमेंट करने पर छूट की घोषणा की गई है। वित्त मंत्री ने बताया कि अब पेट्रोल-डीजल की 40 फीसदी खरीद कैशलेस तरीके से हो रही है। सरकार अर्थव्यवस्था में कैश का फ्लो कम करने के लिए प्रतिबद्ध है।

सरकार की अहम घोषणाएं इस प्रकार है....

# हर 10 हजार से ज्यादा आबादी वाले गांव में दो पीओएस यानी प्वाइंट ऑफ सेल लगाए जाएंगे। ऐसे करीब एक लाख गांवों का चयन किया जाएगा।

# ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए स्वाइप मशीन और माइक्रो एटीएम को बढ़ावा दिया जाएगा।

# देश में करीब 4.32 करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड इस्तेमाल किए जाते हैं, इन सभी को नाबार्ड द्वारा रुपे कार्ड दिया जाएगा।

# शहरी क्षेत्रों में मंथली-सीजनल टिकट डिजिटल तरीके से लेने वालों को 0.5 फीसदी का डिस्काउंट दिया जाएगा। इसे सबसे पहले मुंबई में लागू किया जाएगा।

# ऑनलाइन रेलवे टिकट लेने वालों को 10 लाख रुपये का अलग से एक्सीडेंटल बीमा कवर दिया जाएगा।

# रेलवे की कैटरिंग, रिटायरिंग रूम्स जैसी सुविधाओं के लिए डिजिटल पेमेंट करने वाले को 5 फीसदी की छूट दी जाएगी।

# देश भर के सभी टोल प्लाजा पर डिजिटल पेमेंट के द्वारा आरएफआइडी और फास्टैग कार्ड लेने पर 10 फीसदी की छूट दी जाएगी।

# सरकारी क्षेत्र की बीमा कंपनियों के कस्टमर पोर्टल से इंश्योरेंस लेने पर और प्रीमियम देने पर जनरल इंश्योरेंस पर 10 प्रतिशत की छूट दी जाएगी और लाइफ इंश्योरेंस पर 8 प्रतिशत की छूट मिलेगी।

# केंद्रीय विभाग और पीएसयू सुनिश्चित करेंगे कि ट्रांजैक्शन फीस और एमटीआर चार्जेज का बोझ न पड़े।

# पीएसयू बैंक यह सुनिश्चित करेंगे कि माइक्रो, एटीएम, पीओएस टर्मिनल और मोबाइल पीओएस का किराया 100 रुपये से अधिक न हो।


# 2000 रुपये के सभी डिजिटल ट्रांजैक्शंस पर सर्विस टैक्स लागू नहीं होगा।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

जयललिता का निधन : सदमे से 77 लोगों की मौत, 3-3 लाख मुआवज़े की घोषणा!

नई दिल्ली : तमिलनाडु के सत्तारूढ़ दल अन्नाद्रमुक ने बुधवार को कहा कि जयललिता की बीमारी और उसके बाद निधन के दुख और सदमे से अभी तक 77 लोगों की जान गयी है। पार्टी ने प्रत्येक पीड़ित परिवार को तीन-तीन लाख रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा आज की।



जयललिता की पांच दिसंबर को मृत्यु के बाद कथित रूप से आत्मदाह का प्रयास करने वाले पार्टी पदाधिकारी तथा अपनी अंगुलियां काट लेने वाले व्यक्ति को भी पार्टी ने 50-50 हजार रूपए देने की घोषणा की है। 

गौरतलब है कि हार्ट अटैक के बाद जयललिता का निधन सोमवार रात 11:30 बजे अपोलो अस्पताल में हो गया था।

पार्टी ने दुख और सदमे से मरने वालों की तादाद तो बताई है, लेकिन यह नहीं बताया है कि इसमें कितने पुरुष और कितनी महिलाएं शामिल हैं। साथ ही पार्टी ने यह भी साफ नहीं किया है कि यह लोग कहां के रहने वाले थे?

जयललिता 75 दिन अस्पताल में भर्ती रहीं और इस दौरान उनके समर्थक भी 24 घंटे अस्पताल के बाहर जमे रहे। अपोलो अस्पताल में जब जयललिता की हृदयगति रुकने की खबर आई, तब भी बड़ी संख्या में अस्पताल के बाहर खड़े उनके समर्थक रोते नजर आए।

नई दिल्ली : तमिलनाडु के सत्तारूढ़ दल अन्नाद्रमुक ने बुधवार को कहा कि जयललिता की बीमारी और उसके बाद निधन के दुख और सदमे से अभी तक 77 लोगों की जान गयी है। पार्टी ने प्रत्येक पीड़ित परिवार को तीन-तीन लाख रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा आज की।



जयललिता की पांच दिसंबर को मृत्यु के बाद कथित रूप से आत्मदाह का प्रयास करने वाले पार्टी पदाधिकारी तथा अपनी अंगुलियां काट लेने वाले व्यक्ति को भी पार्टी ने 50-50 हजार रूपए देने की घोषणा की है। 

गौरतलब है कि हार्ट अटैक के बाद जयललिता का निधन सोमवार रात 11:30 बजे अपोलो अस्पताल में हो गया था।

पार्टी ने दुख और सदमे से मरने वालों की तादाद तो बताई है, लेकिन यह नहीं बताया है कि इसमें कितने पुरुष और कितनी महिलाएं शामिल हैं। साथ ही पार्टी ने यह भी साफ नहीं किया है कि यह लोग कहां के रहने वाले थे?

जयललिता 75 दिन अस्पताल में भर्ती रहीं और इस दौरान उनके समर्थक भी 24 घंटे अस्पताल के बाहर जमे रहे। अपोलो अस्पताल में जब जयललिता की हृदयगति रुकने की खबर आई, तब भी बड़ी संख्या में अस्पताल के बाहर खड़े उनके समर्थक रोते नजर आए।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Wednesday, 7 December 2016

जनार्दन रेड्डी की बेटी की शाही शादी से पहले काला धन हुआ सफेद, ड्राइवर ने सुसाइड नोट में किया दावा!

नई दिल्ली : कर्नाटक प्रशासनिक सेवा के एक अधिकारी के ड्राइवर रमेश गौड़ा ने कल मंगलवार को आत्महत्या कर ली। उस ड्राइवर का यह दावा था कि वह यह जानता था कि राजनीतिज्ञ जी जनार्दन रेड्डी ने किस तरह अपने सौ करोड़ कालेधन को सफेद किया।



ANI के अनुसार ड्राइवर गौड़ा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि रेड्डी कनार्टक प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को 20 प्रतिशत कमीशन देते थे। ड्राइवर का यह भी आरोप है कि उसे खनन कारोबारी मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे।

रमेश गौड़ा ने जहर  खाकर  आत्महत्या की है, उनका शव बीती रात पाया गया। वह भूमि अधिग्रहण अधिकारी भीमा नायक के ड्राइवर थे। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा है कि कि मुझे जान से मारने की धमकी मिल रही थी, इसलिए मैं आत्महत्या कर रहा हूं।

सुसाइड नोट के अनुसार रेड्डी एक भाजपा सांसद श्रीमालू के साथ अकसर नायक से मिलते थे। रेड्डी की बेटी की शादी से पूर्व भी एक पांच सितारा होटल में इनकी मुलाकात हुई थी।

गौड़ा का आरोप है कि नायक को रेड्डी से 20 प्रतिशत कमीशन मिलता था।‌ गौरतलब है कि रेड्डी इन दिनों चर्चा में है क्योंकि ऐसा कहा जा रहा है कि उन्होंने अपनी बेटी की शादी में 500 करोड़ रुपये खर्च किये और 50,000 से ज्यादा मेहमानों का स्वागत किया।


जबकि नोटबंदी के कारण लोग बुरी तरह से प्रभावित हैं और सबके पास कैश की सख्त कमी है। गौरतलब है कि खनन घोटाला के आरोपी रेड्डी ने चार साल बेंगलुरू और हैदराबाद की जेल में बिताया है।

नई दिल्ली : कर्नाटक प्रशासनिक सेवा के एक अधिकारी के ड्राइवर रमेश गौड़ा ने कल मंगलवार को आत्महत्या कर ली। उस ड्राइवर का यह दावा था कि वह यह जानता था कि राजनीतिज्ञ जी जनार्दन रेड्डी ने किस तरह अपने सौ करोड़ कालेधन को सफेद किया।



ANI के अनुसार ड्राइवर गौड़ा ने अपने सुसाइड नोट में लिखा है कि रेड्डी कनार्टक प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को 20 प्रतिशत कमीशन देते थे। ड्राइवर का यह भी आरोप है कि उसे खनन कारोबारी मानसिक रूप से प्रताड़ित करते थे।

रमेश गौड़ा ने जहर  खाकर  आत्महत्या की है, उनका शव बीती रात पाया गया। वह भूमि अधिग्रहण अधिकारी भीमा नायक के ड्राइवर थे। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा है कि कि मुझे जान से मारने की धमकी मिल रही थी, इसलिए मैं आत्महत्या कर रहा हूं।

सुसाइड नोट के अनुसार रेड्डी एक भाजपा सांसद श्रीमालू के साथ अकसर नायक से मिलते थे। रेड्डी की बेटी की शादी से पूर्व भी एक पांच सितारा होटल में इनकी मुलाकात हुई थी।

गौड़ा का आरोप है कि नायक को रेड्डी से 20 प्रतिशत कमीशन मिलता था।‌ गौरतलब है कि रेड्डी इन दिनों चर्चा में है क्योंकि ऐसा कहा जा रहा है कि उन्होंने अपनी बेटी की शादी में 500 करोड़ रुपये खर्च किये और 50,000 से ज्यादा मेहमानों का स्वागत किया।


जबकि नोटबंदी के कारण लोग बुरी तरह से प्रभावित हैं और सबके पास कैश की सख्त कमी है। गौरतलब है कि खनन घोटाला के आरोपी रेड्डी ने चार साल बेंगलुरू और हैदराबाद की जेल में बिताया है।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

बंगाल : BJP नेता लाखों के नए नोट के साथ गिरफ्तार!

नई दिल्ली : कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (STF) ने मंगलवार देर रात बीजेपी नेता मनीष शर्मा को 33 लाख कीमत वाले नए नोटों के साथ गिरफ्तार किया है।



मनीष को 2000 के नए नोटों वाली करंसी साथ रानीगंज कोयला बेल्ट से गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि मनीष ने इसी साल बीजेपी के टिकट पर विधानसभा चुनाव भी लड़ा था।

आरोपी नेता की पहचान कोयला माफिया के तौर पर है और उसके साथ छह और ट्रक मालिकों को भी गिरफ्तार किया है।

मनीष के पास से हथियार भी हुए बरामद :-

आपको बता दें कि आरोपियों के पास से सात फायर आर्म, 89 राउंड गोली, 33 लाख रुपये नकदी बरामद हुए हैं। बीजेपी नेता शर्मा की कार से 10 लाख की कीमत वाले 2000 के नर नोट मिले हैं। जिस दौरान ये रेड हुई उनके साथ कार में चार और लोग भी मौजूद थे।

बता दें कि मनीष के साथ मौजूद आरोपी डॉन राजेश झा (46) इससे पहले दो बार जून और जुलाई में नकली करंसी और मर्डर के केस में गिरफ्तार हो चुका। पुलिस आरोपियों के पास से मिले पैसों के स्त्रोत की जांच कर रही है।


आरोपियों के पास से 2000 के नए नोट के साथ 50 और 100 रुपए के नोट मिले हैं। वहीं, 2 लाख रुपए के सभी नोट सीरीज में होने के कारण पुलिस को शंका है कि रकम किसी बैंक से निकाली गई है। 

नई दिल्ली : कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (STF) ने मंगलवार देर रात बीजेपी नेता मनीष शर्मा को 33 लाख कीमत वाले नए नोटों के साथ गिरफ्तार किया है।



मनीष को 2000 के नए नोटों वाली करंसी साथ रानीगंज कोयला बेल्ट से गिरफ्तार किया गया है। बता दें कि मनीष ने इसी साल बीजेपी के टिकट पर विधानसभा चुनाव भी लड़ा था।

आरोपी नेता की पहचान कोयला माफिया के तौर पर है और उसके साथ छह और ट्रक मालिकों को भी गिरफ्तार किया है।

मनीष के पास से हथियार भी हुए बरामद :-

आपको बता दें कि आरोपियों के पास से सात फायर आर्म, 89 राउंड गोली, 33 लाख रुपये नकदी बरामद हुए हैं। बीजेपी नेता शर्मा की कार से 10 लाख की कीमत वाले 2000 के नर नोट मिले हैं। जिस दौरान ये रेड हुई उनके साथ कार में चार और लोग भी मौजूद थे।

बता दें कि मनीष के साथ मौजूद आरोपी डॉन राजेश झा (46) इससे पहले दो बार जून और जुलाई में नकली करंसी और मर्डर के केस में गिरफ्तार हो चुका। पुलिस आरोपियों के पास से मिले पैसों के स्त्रोत की जांच कर रही है।


आरोपियों के पास से 2000 के नए नोट के साथ 50 और 100 रुपए के नोट मिले हैं। वहीं, 2 लाख रुपए के सभी नोट सीरीज में होने के कारण पुलिस को शंका है कि रकम किसी बैंक से निकाली गई है। 
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.