Wednesday, 22 February 2017

SEX स्कैंडल में फंसे बिहार कांग्रेस वाइस प्रेजिडेंट, दिया इस्तीफा!

नई दिल्ली : बिहार कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रजेश पांडे एक दलित लड़की के यौन शौषण के मामले में फंस गए हैं। दलित लड़की कोई और नहीं बल्कि एक कांग्रेस के ही नेता की बेटी है। इस सनसनीखेज वारदात में एक पूर्व आईएएस का बेटा भी शामिल है।

Image Source - siliguritimes

ढाई महीने पहले लड़की ने एफआईआर दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है। हालांकि आरोपों के बाद ब्रजेश पांडे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

पीड़ित लड़की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गुहार लगा चुकी है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सीबीआई तक को पत्र लिख चुकी है, लेकिन कहीं से कोई मदद नही मिली। थक हार कर उसे मीडिया का सहारा लेना पड़ा।
आरोपी निखिल प्रियदर्शी एक पूर्व आईएएस का बेटा तो है ही, उसके बहनोई सीबीआई में एसपी है। उसका दोस्त बिहार के डीजीपी का बेटा है।

पीड़ित लड़की को न सिर्फ ब्लैकमेल कर यौन शोषण किया गया है, बल्कि उसे प्रताडित भी किया है। उसका आरोप है कि ब्रजेश पांडे और निखिल प्रियदर्शी सेक्स रैकेट चलाते हैं।

उसमें बिहार के कई रसूखदार नेता और ब्यूरोक्रेट भी शामिल हैं। पुलिस ने इस मामले में एसआईटी गठित कर जांच शुरू की है, लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पीड़िता ने बताया कि निखिल प्रियदर्शी से व्हाट्सएप और फेसबुक के जरिए उसकी जान-पहचान हुई थी। इसके बाद दोनों के बीच बातचीत होने लगी। एक दिन निखिल उसे ब्रजेश पांडे के पास भेजा। वह उसे उनके बोरिंग रोड एक फ्लैट में ले गया था। वहां कोल्ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पीला दिया। इसके बाद उसको कोई होश नहीं था।

उसने बताया कि उसके नशे में आने के बाद ब्रजेश पांडे ने उसके प्राइवेट पार्ट को टच किया। उसने इसका बाद विरोध किया, तो निखिल और उसका परिवार उसको बहुत मरता-पिटता था। परिवार के लोग में निखिल के पिता औऱ भाई भी शामिल थे। वे सभी सेक्स रैकेट चलाते है। उसको भी सप्लाई करने के लिए दबाव बना रहे थे।


पीड़िता का आरोप है कि उसने जब थाने में शिकायत दर्ज कराई, तो पुलिस ने आरोपी को ही संरक्षण दिया। एसएचओ को जानकारी थी कि निखिल एयरपोर्ट से जा रहा है, लेकिन एडीजी को बताया तो उन्होंने गिरफ्तारी का आदेश नहीं दिया। हर कोई उसके पक्ष में है, इसलिए अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद उसने सीएम से गुहार लगाई।

नई दिल्ली : बिहार कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष ब्रजेश पांडे एक दलित लड़की के यौन शौषण के मामले में फंस गए हैं। दलित लड़की कोई और नहीं बल्कि एक कांग्रेस के ही नेता की बेटी है। इस सनसनीखेज वारदात में एक पूर्व आईएएस का बेटा भी शामिल है।

Image Source - siliguritimes

ढाई महीने पहले लड़की ने एफआईआर दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है। हालांकि आरोपों के बाद ब्रजेश पांडे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

पीड़ित लड़की मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से गुहार लगा चुकी है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और सीबीआई तक को पत्र लिख चुकी है, लेकिन कहीं से कोई मदद नही मिली। थक हार कर उसे मीडिया का सहारा लेना पड़ा।
आरोपी निखिल प्रियदर्शी एक पूर्व आईएएस का बेटा तो है ही, उसके बहनोई सीबीआई में एसपी है। उसका दोस्त बिहार के डीजीपी का बेटा है।

पीड़ित लड़की को न सिर्फ ब्लैकमेल कर यौन शोषण किया गया है, बल्कि उसे प्रताडित भी किया है। उसका आरोप है कि ब्रजेश पांडे और निखिल प्रियदर्शी सेक्स रैकेट चलाते हैं।

उसमें बिहार के कई रसूखदार नेता और ब्यूरोक्रेट भी शामिल हैं। पुलिस ने इस मामले में एसआईटी गठित कर जांच शुरू की है, लेकिन अभी तक किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है।

पीड़िता ने बताया कि निखिल प्रियदर्शी से व्हाट्सएप और फेसबुक के जरिए उसकी जान-पहचान हुई थी। इसके बाद दोनों के बीच बातचीत होने लगी। एक दिन निखिल उसे ब्रजेश पांडे के पास भेजा। वह उसे उनके बोरिंग रोड एक फ्लैट में ले गया था। वहां कोल्ड्रिंक में नशीला पदार्थ मिलाकर पीला दिया। इसके बाद उसको कोई होश नहीं था।

उसने बताया कि उसके नशे में आने के बाद ब्रजेश पांडे ने उसके प्राइवेट पार्ट को टच किया। उसने इसका बाद विरोध किया, तो निखिल और उसका परिवार उसको बहुत मरता-पिटता था। परिवार के लोग में निखिल के पिता औऱ भाई भी शामिल थे। वे सभी सेक्स रैकेट चलाते है। उसको भी सप्लाई करने के लिए दबाव बना रहे थे।


पीड़िता का आरोप है कि उसने जब थाने में शिकायत दर्ज कराई, तो पुलिस ने आरोपी को ही संरक्षण दिया। एसएचओ को जानकारी थी कि निखिल एयरपोर्ट से जा रहा है, लेकिन एडीजी को बताया तो उन्होंने गिरफ्तारी का आदेश नहीं दिया। हर कोई उसके पक्ष में है, इसलिए अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसके बाद उसने सीएम से गुहार लगाई।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

अमर सिंह का खुलासा - ड्रामा था पार्टी का झगड़ा, मुलायम और अखिलेश ने तैयार की थी स्क्रिप्ट!

नई दिल्ली : खुद के बयानों को लेकर हमेशा विवादों में रहने वाले पूर्व सपा नेता व सांसद अमर सिंह ने मुलायम कुनबे में जारी घमाषाण को लेकर बड़ा खुलासा किया है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह के कुनबे में हुए झगड़े और उथल-पुथल को सपा से निष्कासित नेता अमर सिंह ने पहले से प्रायोजित बताया है।

Image Source - dailymail

अमर के अनुसार पार्टी में जो भी हुआ वो पहले से तय ड्रामा था और इसकी पटकथा खुद सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लिखी थी। इस ड्रामे में बस मुझे इस्तेमाल किया गया। उन्होंने कहा कि ड्रामे की शुरूआत होने से पहले ही सभी को रोल दे दिया गया था।

अमर सिंह ने कहा कि मुझे धीरे-धीरे समझ आया कि मेरा इसमें इस्तेमाल किया गया। अगर ने एक बिजनेस न्यू चैनल से बात करते हुए बताया कि मुझे समझ आ गया कि ये पूरा ड्रामा प्रदेश की कानून-व्यवस्था के बिगड़े हालात और सत्ता विरोधी लहर से ध्यान हटाने के लिए एक चाल थी।

अमर सिंह ने कहा कि मैंने देखा कि मुलायम सिंह यादव को अपने बेटे अखिलेश यादव से मिली हार पसंद है। अमर ने कहा कि सपा सुप्रीमो के लिए समाजवादी पार्टी, चुनाव चिन्ह साइकिल और बेटा अखिलेश यादव उनकी कमजोरी हैं। उन्होंने कहा कि अगर स्क्रिप्ट पहले से लिखी नहीं होती तो चुनाव के दिन पूरा परिवार एक साथ कैसे नजर आया। उन्होंने साथ वोटिंग की। ऐसे में पार्टी में घमासान के ड्रामे का क्या मतलब बनता है।

आपको बता दे की चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी में घमासान देखने को मिला था। जब उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव का अपने पिता मुलायम सिंह यादव से पार्टी में नेतृत्व को लेकर झगड़ा सामने आया था। उस समय अखिलेश यादव और उनके चाचा रामगोपाल यादव एक खेमे में नजर आ रहे थे। दूसरे खेमे में मुलायम सिंह यादव और उनके भाई शिवपाल यादव थे।

अमर सिंह उस समय मुलायम खेमे में थे। समाजवादी पार्टी में विवाद के दौरान अखिलेश यादव ने अमर सिंह को ही बाहरी करार देते हुए पार्टी में झगड़े की असल वजह बताया था। बाद में समाजवादी पार्टी में नेतृत्व का मामला चुनाव आयोग पहुंचा। जहां से अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी का सर्वेसर्वा करार देकर चुनाव चिन्ह साइकिल सौंप दिया गया। मुलायम सिंह यादव खेमे को इसमें झटका लगा। पर उन्होंने विरोध का झंडा फौरन ही डाल दिया।


इसके बाद अखिलेश ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया है। जिसमें समाजवादी पार्टी 298 और कांग्रेस 105 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है। यूपी के सीएम अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मिलकर सपा-कांग्रेस गठबंधन को जिताने की अपील जनता से कर रहे हैं।

नई दिल्ली : खुद के बयानों को लेकर हमेशा विवादों में रहने वाले पूर्व सपा नेता व सांसद अमर सिंह ने मुलायम कुनबे में जारी घमाषाण को लेकर बड़ा खुलासा किया है। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी सुप्रीमो मुलायम सिंह के कुनबे में हुए झगड़े और उथल-पुथल को सपा से निष्कासित नेता अमर सिंह ने पहले से प्रायोजित बताया है।

Image Source - dailymail

अमर के अनुसार पार्टी में जो भी हुआ वो पहले से तय ड्रामा था और इसकी पटकथा खुद सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लिखी थी। इस ड्रामे में बस मुझे इस्तेमाल किया गया। उन्होंने कहा कि ड्रामे की शुरूआत होने से पहले ही सभी को रोल दे दिया गया था।

अमर सिंह ने कहा कि मुझे धीरे-धीरे समझ आया कि मेरा इसमें इस्तेमाल किया गया। अगर ने एक बिजनेस न्यू चैनल से बात करते हुए बताया कि मुझे समझ आ गया कि ये पूरा ड्रामा प्रदेश की कानून-व्यवस्था के बिगड़े हालात और सत्ता विरोधी लहर से ध्यान हटाने के लिए एक चाल थी।

अमर सिंह ने कहा कि मैंने देखा कि मुलायम सिंह यादव को अपने बेटे अखिलेश यादव से मिली हार पसंद है। अमर ने कहा कि सपा सुप्रीमो के लिए समाजवादी पार्टी, चुनाव चिन्ह साइकिल और बेटा अखिलेश यादव उनकी कमजोरी हैं। उन्होंने कहा कि अगर स्क्रिप्ट पहले से लिखी नहीं होती तो चुनाव के दिन पूरा परिवार एक साथ कैसे नजर आया। उन्होंने साथ वोटिंग की। ऐसे में पार्टी में घमासान के ड्रामे का क्या मतलब बनता है।

आपको बता दे की चुनाव से ठीक पहले समाजवादी पार्टी में घमासान देखने को मिला था। जब उत्तर प्रदेश के सीएम अखिलेश यादव का अपने पिता मुलायम सिंह यादव से पार्टी में नेतृत्व को लेकर झगड़ा सामने आया था। उस समय अखिलेश यादव और उनके चाचा रामगोपाल यादव एक खेमे में नजर आ रहे थे। दूसरे खेमे में मुलायम सिंह यादव और उनके भाई शिवपाल यादव थे।

अमर सिंह उस समय मुलायम खेमे में थे। समाजवादी पार्टी में विवाद के दौरान अखिलेश यादव ने अमर सिंह को ही बाहरी करार देते हुए पार्टी में झगड़े की असल वजह बताया था। बाद में समाजवादी पार्टी में नेतृत्व का मामला चुनाव आयोग पहुंचा। जहां से अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी का सर्वेसर्वा करार देकर चुनाव चिन्ह साइकिल सौंप दिया गया। मुलायम सिंह यादव खेमे को इसमें झटका लगा। पर उन्होंने विरोध का झंडा फौरन ही डाल दिया।


इसके बाद अखिलेश ने कांग्रेस के साथ गठबंधन किया है। जिसमें समाजवादी पार्टी 298 और कांग्रेस 105 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है। यूपी के सीएम अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी मिलकर सपा-कांग्रेस गठबंधन को जिताने की अपील जनता से कर रहे हैं।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Tuesday, 21 February 2017

Jio : हैपी न्यू ईयर के बाद अब प्राइम ऑफर, ये हैं मुकेश अंबानी के बड़े ऐलान...

नई दिल्ली : फ्री वॉयस और डाटा सेवाओं को लाने वाले मुकेश अंबानी ने जियो से संबंधित कुछ बड़ी घोषणाएं की हैं। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए उन्होंने 6 महीने में 10 करोड़ यूजर्स का आंकड़ा पार कर लेने पर सभी जियो यूजर्स को धन्यवाद दिया।

Image Source - aajtak

रिलायंस जियो से जुड़े हुए आंकड़े बताते हुए उन्होंने कहा कि पूरे भारत से जियो को बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली है और इसका सबूत है कि जियो से प्रतिदिन प्रति सेकेंड 7 यूजर जुड़े हैं। इसी के साथ जियो ने टेलिकॉम इंडस्ट्री में कई रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। ब्रॉडबैंड पैनीट्रेशन में भारत जियो से पहले पूरी दुनिया में 150वीं श्रेणी में आता था।

वहीं, जियो के लॉन्च के बाद भारत मोबाइल डाटा यूसेज के मामले में पूरे विश्व में नंबर 1 देश बन चुका है। जियो यूजर्स द्वारा प्रतिदिन 3.3 करोड़ गीगाबाइट से ज्यादा यूसेज किया गया है, जो साफतौर से यह दर्शाता है कि भारत और भारत की जनता डिजिटल हो रही है।

इसी के साथ वीडियो एक ऐसा माध्यम है, जो लोगों को डिजटल होने में सबसे ज्यादा पसंद आ रहा है। जियो यूजर्स ने प्रतिदिन 5.5 करोड़ घंटे वीडियो देखते हुए बिताए हैं, जो जियो को विश्व स्तर पर सबसे बड़ी मोबाइल वीडियो नेटवर्क कंपनी में से एक बनाता है।

रिलायंस जियो के हैप्पी न्यू ऑफर के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि 31 मार्च को यह ऑफर खत्म होने जा रहा है और 1 अप्रैल 2017 से जियो यूजर्स के लिए नए टैरिफ लागू होंगे। हालांकि, इन नए टैरिफ प्लान्स में पूरे भारत में सभी डोमेस्टिक कॉल्स बिल्कुल मुफ्त होंगी।

और इसके साथ ही जियो यूजर्स को न ही कोई रोमिंग चार्ज, न कोई हिडेन चार्ज और न ब्लैकआउट डेज पर कोई चार्ज देना पड़ेगा। अपने पहले 100 मिलियन यूजर्स को धन्यवाद करते हुए मुकेश अम्बानी ने कस्टमर्स को आगे भी खुद से जुड़े रहने के लिए कहा|

और मौजूदा जियो के ग्राहकों के लिए खास ऑफर की घोषणा की| इस ऑफर का लाभ मौजूदा यूजर्स या 31 मार्च 2017 तक जुड़ने वाले यूजर्स ही उठा सकते हैं।

क्या है ऑफर?

इस ऑफर को जियो प्राइम मेंबरशिप प्रोग्राम का नाम दिया गया है, जिसके अंतर्गत मौजूदा जियो यूजर्स 31 मार्च तक enroll करवा सकते हैं। जियो प्राइम मेंबरशिप प्रोग्राम में enroll करवाने पर जियो यूजर्स को प्राइम मेंबरशिप बेनिफिट प्राप्त होंगे। इसके अंतर्गत उन्हें वह सभी सेवाएं मिलेंगी, जो वो अभी तक हैप्पी नई ईयर प्लान के तहत इस्तेमाल करते आ रहे हैं|

इसके लिए यूजर्स को मात्र 99 रुपये प्रतिवर्ष देने होंगे। प्राइम मेंबर्स के लिए 303 रुपये प्रति महीने का प्लान दिया जाएगा। प्राइम मेंबर्स को जियो मीडिया बुके मिलेगा। उन्हें एक साल के लिए और न्यू ईयर ऑफर यानी फ्री सर्विस मिलेगी। 1 से 31 मार्च 2017 तक जियो प्राइम मेंबरशिप दी जाएगी।

उन्होंने भरोसा दिलाया कि अन्य ऑपरेटर्स के मुकाबले रिलायंस जियो रोजाना 20 फीसदी ज्यादा डाटा ग्राहकों को देगा। साथ ही मौजूदा टैरिफ प्लॉन को एक साल के लिए बढ़ा दिया गया है। इस तरह मौजूदा जियो यूजर्स 10 रुपये रोजाना देकर हैप्पी न्यू ईयर प्लान को चालू रख सकेंगे। इस मेंबरशिप प्रोग्राम में आगे भी डील्स और ऑफर्स आते रहेंगे।


हालांकि, इस बात का ध्यान रखें की यह मेंबरशिप प्रोग्राम सीमित समय यानि केवल 31 मार्च 2017 तक के लिए उपलब्ध है। इसमें मेंबरशिप प्रोग्राम में आप 1 मार्च 2017 से enrollment करवा सकते हैं। इसमें खुद को enroll करवाने के लिए आप my jio एप का इस्तेमाल कर सकते हैं या jio.com वेबसाइट पर जा सकते हैं। या किसी भी जियो स्टोर पर खुद को enroll करा सकते हैं।

नई दिल्ली : फ्री वॉयस और डाटा सेवाओं को लाने वाले मुकेश अंबानी ने जियो से संबंधित कुछ बड़ी घोषणाएं की हैं। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए उन्होंने 6 महीने में 10 करोड़ यूजर्स का आंकड़ा पार कर लेने पर सभी जियो यूजर्स को धन्यवाद दिया।

Image Source - aajtak

रिलायंस जियो से जुड़े हुए आंकड़े बताते हुए उन्होंने कहा कि पूरे भारत से जियो को बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली है और इसका सबूत है कि जियो से प्रतिदिन प्रति सेकेंड 7 यूजर जुड़े हैं। इसी के साथ जियो ने टेलिकॉम इंडस्ट्री में कई रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। ब्रॉडबैंड पैनीट्रेशन में भारत जियो से पहले पूरी दुनिया में 150वीं श्रेणी में आता था।

वहीं, जियो के लॉन्च के बाद भारत मोबाइल डाटा यूसेज के मामले में पूरे विश्व में नंबर 1 देश बन चुका है। जियो यूजर्स द्वारा प्रतिदिन 3.3 करोड़ गीगाबाइट से ज्यादा यूसेज किया गया है, जो साफतौर से यह दर्शाता है कि भारत और भारत की जनता डिजिटल हो रही है।

इसी के साथ वीडियो एक ऐसा माध्यम है, जो लोगों को डिजटल होने में सबसे ज्यादा पसंद आ रहा है। जियो यूजर्स ने प्रतिदिन 5.5 करोड़ घंटे वीडियो देखते हुए बिताए हैं, जो जियो को विश्व स्तर पर सबसे बड़ी मोबाइल वीडियो नेटवर्क कंपनी में से एक बनाता है।

रिलायंस जियो के हैप्पी न्यू ऑफर के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि 31 मार्च को यह ऑफर खत्म होने जा रहा है और 1 अप्रैल 2017 से जियो यूजर्स के लिए नए टैरिफ लागू होंगे। हालांकि, इन नए टैरिफ प्लान्स में पूरे भारत में सभी डोमेस्टिक कॉल्स बिल्कुल मुफ्त होंगी।

और इसके साथ ही जियो यूजर्स को न ही कोई रोमिंग चार्ज, न कोई हिडेन चार्ज और न ब्लैकआउट डेज पर कोई चार्ज देना पड़ेगा। अपने पहले 100 मिलियन यूजर्स को धन्यवाद करते हुए मुकेश अम्बानी ने कस्टमर्स को आगे भी खुद से जुड़े रहने के लिए कहा|

और मौजूदा जियो के ग्राहकों के लिए खास ऑफर की घोषणा की| इस ऑफर का लाभ मौजूदा यूजर्स या 31 मार्च 2017 तक जुड़ने वाले यूजर्स ही उठा सकते हैं।

क्या है ऑफर?

इस ऑफर को जियो प्राइम मेंबरशिप प्रोग्राम का नाम दिया गया है, जिसके अंतर्गत मौजूदा जियो यूजर्स 31 मार्च तक enroll करवा सकते हैं। जियो प्राइम मेंबरशिप प्रोग्राम में enroll करवाने पर जियो यूजर्स को प्राइम मेंबरशिप बेनिफिट प्राप्त होंगे। इसके अंतर्गत उन्हें वह सभी सेवाएं मिलेंगी, जो वो अभी तक हैप्पी नई ईयर प्लान के तहत इस्तेमाल करते आ रहे हैं|

इसके लिए यूजर्स को मात्र 99 रुपये प्रतिवर्ष देने होंगे। प्राइम मेंबर्स के लिए 303 रुपये प्रति महीने का प्लान दिया जाएगा। प्राइम मेंबर्स को जियो मीडिया बुके मिलेगा। उन्हें एक साल के लिए और न्यू ईयर ऑफर यानी फ्री सर्विस मिलेगी। 1 से 31 मार्च 2017 तक जियो प्राइम मेंबरशिप दी जाएगी।

उन्होंने भरोसा दिलाया कि अन्य ऑपरेटर्स के मुकाबले रिलायंस जियो रोजाना 20 फीसदी ज्यादा डाटा ग्राहकों को देगा। साथ ही मौजूदा टैरिफ प्लॉन को एक साल के लिए बढ़ा दिया गया है। इस तरह मौजूदा जियो यूजर्स 10 रुपये रोजाना देकर हैप्पी न्यू ईयर प्लान को चालू रख सकेंगे। इस मेंबरशिप प्रोग्राम में आगे भी डील्स और ऑफर्स आते रहेंगे।


हालांकि, इस बात का ध्यान रखें की यह मेंबरशिप प्रोग्राम सीमित समय यानि केवल 31 मार्च 2017 तक के लिए उपलब्ध है। इसमें मेंबरशिप प्रोग्राम में आप 1 मार्च 2017 से enrollment करवा सकते हैं। इसमें खुद को enroll करवाने के लिए आप my jio एप का इस्तेमाल कर सकते हैं या jio.com वेबसाइट पर जा सकते हैं। या किसी भी जियो स्टोर पर खुद को enroll करा सकते हैं।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

राजस्थान : बीजेपी MLA के पति ने मारा पुलिसवाले को थप्पड़, खूब मचा बवाल!

नई दिल्ली : BJP कार्यकर्ता के खिलाफ शराब पीकर वाहन चलाने का चालान बनाने के मामले में सोमवार को कोटा के महावीर नगर थाने में जमकर हंगामा हुआ।

Image Source - DB

हंगामा विधायक चंद्रकांता मेघवाल के पति नरेन्द्र मेघवाल द्वारा सीआई श्रीराम बड़ेसरा को चांटा मारने और लॉकअप तोड़ने की धमकी देने के बाद शुरू हुआ।

कोटा पुलिस ने विधायक चंद्रकांता मेघवाल, पति नरेन्द्र मेघवाल और भाजपा कार्यकर्ताओं से मारपीट कर दी। भाजपा शहर जिलाध्यक्ष हेमंत विजय से भी पुलिस ने हाथापाई कर दी। इससे भड़के कार्यकर्ताओं ने थाने के बाहर टायर जलाकर रास्ता जाम कर दिया।

थाने में सांसद-विधायक और बाहर चलते रहे लाठी-भाटा :-

भाजपा सांसद और सभी विधायक थाने पहुंच गए। थाने में सांसद, विधायक और पुलिस की वार्ता चलती रही और बाहर लाठी-भाटा जंग होती रही। दोपहर दो बजे से शुरू हुआ हंगामा रात 11 बजे तक चलता रहा। रात 1 बजे तक दोनों पक्षों में वार्ता चलती रही।

भाजपा नेता दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े थे। वहीं, पुलिस विधायक मेघवाल और उनके पति नरेंद्र के खिलाफ कानूनी कार्रवाई पर अड़ी हुई थी।

पुलिस ने मुझे पटक कर मारा : विधायक

कार्यकर्ता के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज करने को लेकर मंडल अध्यक्ष व कुछ पदाधिकारी महावीर नगर थाने पर ज्ञापन देने गए थे। मुझे और जिलाध्यक्ष हेमंत विजय को सूचना मिली तो थाने पहुंचे। इनमें एक कार्यकर्ता हार्ट का पेशेंट है, जिसे लेकर सभी का कहना था कि उन्हें तत्काल अस्पताल भेजने की जरूरत है।

मैं इसी मामले को लेकर थाने आई थी, जिलाध्यक्ष भी साथ थे। पहले तो हमें गेट पर ही रोक दिया। यहां मौजूद सीओ चूनाराम ने बात करने से ही मना कर दिया। हमने नाराजगी जताई तो सभी ने मिलकर हमें पीटना शुरू कर दिया। मुझे गार्डन व चैंबर में ले जाकर पटक-पटककर मारा।

करीब 20-25 लट्ठ मैंने, मेरे पति और कार्यकर्ताओं ने झेले। बचाने आए मेरे पति व जिलाध्यक्ष को भी पीटा। मेरे समझ में यह नहीं आता कि हमने ऐसा क्या गुनाह कर दिया था? मेरे हाथ में फ्रैक्चर हो गया, साड़ी फट गई और लाठियों के वार झेलने से कड़े टूट गए।


सारे पुलिसवाले बार-बार मुझे जातिसूचक शब्दों से अपमानित करते रहे। मेरे पति द्वारा सीआई को पीटने की बात 100 फीसदी निराधार है। मेरे पति तो करीब पौन घंटे बाद थाने आए थे। 

नई दिल्ली : BJP कार्यकर्ता के खिलाफ शराब पीकर वाहन चलाने का चालान बनाने के मामले में सोमवार को कोटा के महावीर नगर थाने में जमकर हंगामा हुआ।

Image Source - DB

हंगामा विधायक चंद्रकांता मेघवाल के पति नरेन्द्र मेघवाल द्वारा सीआई श्रीराम बड़ेसरा को चांटा मारने और लॉकअप तोड़ने की धमकी देने के बाद शुरू हुआ।

कोटा पुलिस ने विधायक चंद्रकांता मेघवाल, पति नरेन्द्र मेघवाल और भाजपा कार्यकर्ताओं से मारपीट कर दी। भाजपा शहर जिलाध्यक्ष हेमंत विजय से भी पुलिस ने हाथापाई कर दी। इससे भड़के कार्यकर्ताओं ने थाने के बाहर टायर जलाकर रास्ता जाम कर दिया।

थाने में सांसद-विधायक और बाहर चलते रहे लाठी-भाटा :-

भाजपा सांसद और सभी विधायक थाने पहुंच गए। थाने में सांसद, विधायक और पुलिस की वार्ता चलती रही और बाहर लाठी-भाटा जंग होती रही। दोपहर दो बजे से शुरू हुआ हंगामा रात 11 बजे तक चलता रहा। रात 1 बजे तक दोनों पक्षों में वार्ता चलती रही।

भाजपा नेता दोषी अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग पर अड़े थे। वहीं, पुलिस विधायक मेघवाल और उनके पति नरेंद्र के खिलाफ कानूनी कार्रवाई पर अड़ी हुई थी।

पुलिस ने मुझे पटक कर मारा : विधायक

कार्यकर्ता के खिलाफ झूठा मुकदमा दर्ज करने को लेकर मंडल अध्यक्ष व कुछ पदाधिकारी महावीर नगर थाने पर ज्ञापन देने गए थे। मुझे और जिलाध्यक्ष हेमंत विजय को सूचना मिली तो थाने पहुंचे। इनमें एक कार्यकर्ता हार्ट का पेशेंट है, जिसे लेकर सभी का कहना था कि उन्हें तत्काल अस्पताल भेजने की जरूरत है।

मैं इसी मामले को लेकर थाने आई थी, जिलाध्यक्ष भी साथ थे। पहले तो हमें गेट पर ही रोक दिया। यहां मौजूद सीओ चूनाराम ने बात करने से ही मना कर दिया। हमने नाराजगी जताई तो सभी ने मिलकर हमें पीटना शुरू कर दिया। मुझे गार्डन व चैंबर में ले जाकर पटक-पटककर मारा।

करीब 20-25 लट्ठ मैंने, मेरे पति और कार्यकर्ताओं ने झेले। बचाने आए मेरे पति व जिलाध्यक्ष को भी पीटा। मेरे समझ में यह नहीं आता कि हमने ऐसा क्या गुनाह कर दिया था? मेरे हाथ में फ्रैक्चर हो गया, साड़ी फट गई और लाठियों के वार झेलने से कड़े टूट गए।


सारे पुलिसवाले बार-बार मुझे जातिसूचक शब्दों से अपमानित करते रहे। मेरे पति द्वारा सीआई को पीटने की बात 100 फीसदी निराधार है। मेरे पति तो करीब पौन घंटे बाद थाने आए थे। 
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

Monday, 20 February 2017

रामदेव बोले - 2000 का नोट लाकर सरकार ने नहीं किया अच्छा काम, करूँगा कांग्रेस का समर्थन!

नई दिल्ली : योग गुरु बाबा रामदेव का कहना है की मोदी सरकार की ओर से जारी किए गए 2,000 रुपए के करेंसी नोट को नोटबंदी के बाद जारी करना देश के लिए अच्छा नहीं है। रामदेव ने यह बातें मध्य प्रदेश राजधानी भोपाल में एक प्रेस वार्ता के दौरान कहीं।

Image Source - topnews

रामदेव ने कहा कि कालाधन देश के अंदर और बाहर हर जगह है। सरकार ने कालेधन पर कड़ा निर्णय लिया और मुझे यह उम्मीद है कि सरकार देश के बाहर मौजूद कालेधन को भी देश में लेकर आएगी।

रामदेव ने कहा कि मौजूदा सरकार के पास अभी भी 2 साल बाकी है। प्रधानमंत्री का पद बहुत ही शक्तिशाली होता है और वो कुछ भी कर सकते हैं। कहा कि अभी भी उम्मीद है कि बाकी 2 वर्षों में भी मोदी जी कालेधन के लिए कुछ ना कुछ करेंगे। कोक और पेप्सी को खतरनाक पेय बताते हुए रामदेव ने कहा कि उनके पेय में पौष्टिक पदार्थ नहीं होते और इन लोगों को नर्मदा नदी के किनारे से दूर रखना होगा।

रामदेव ने कहा कि वास्तव में मैं इन्हें देश के बाहर फेंक देना चाहती हूं। रामदेव ने कहा कि अगर कांग्रेस देश के लिए कुछ सकारात्मक करेगी, तो मैं उनका भी समर्थन करुंगा। रामदेव ने कहा कि देश सबका है। राजनीति से जुड़े सवाल पर रामदेव ने कहा कि फिलहाल राजनीतिक दल बनाने का मेरा कोई इरादा नहीं है।

2014 में राजनीतिक संकट था इसलिए मैंने नरेंद्र मोदी का समर्थन किया। रामदेव ने कहा कि मोदी जी ने मुझसे कहा था कि वो करप्शन के मुद्दे पर 200 फीसदी सहमत हैं और मैंने उन पर विश्वास किया।


मोदी जी का ये ट्रैक रिकॉर्ड रहा है कि वो जो कहते हैं, उसे करते भी हैं। अभी भी दो साल बाकी हैं। केंद्र की राजग सरकार पर रामदेव ने कहा कि कोई भी सरकार स्वदेशी बढ़ाने का काम नहीं कर रही है। सभी दल MNC'S के प्रभाव में हैं।

नई दिल्ली : योग गुरु बाबा रामदेव का कहना है की मोदी सरकार की ओर से जारी किए गए 2,000 रुपए के करेंसी नोट को नोटबंदी के बाद जारी करना देश के लिए अच्छा नहीं है। रामदेव ने यह बातें मध्य प्रदेश राजधानी भोपाल में एक प्रेस वार्ता के दौरान कहीं।

Image Source - topnews

रामदेव ने कहा कि कालाधन देश के अंदर और बाहर हर जगह है। सरकार ने कालेधन पर कड़ा निर्णय लिया और मुझे यह उम्मीद है कि सरकार देश के बाहर मौजूद कालेधन को भी देश में लेकर आएगी।

रामदेव ने कहा कि मौजूदा सरकार के पास अभी भी 2 साल बाकी है। प्रधानमंत्री का पद बहुत ही शक्तिशाली होता है और वो कुछ भी कर सकते हैं। कहा कि अभी भी उम्मीद है कि बाकी 2 वर्षों में भी मोदी जी कालेधन के लिए कुछ ना कुछ करेंगे। कोक और पेप्सी को खतरनाक पेय बताते हुए रामदेव ने कहा कि उनके पेय में पौष्टिक पदार्थ नहीं होते और इन लोगों को नर्मदा नदी के किनारे से दूर रखना होगा।

रामदेव ने कहा कि वास्तव में मैं इन्हें देश के बाहर फेंक देना चाहती हूं। रामदेव ने कहा कि अगर कांग्रेस देश के लिए कुछ सकारात्मक करेगी, तो मैं उनका भी समर्थन करुंगा। रामदेव ने कहा कि देश सबका है। राजनीति से जुड़े सवाल पर रामदेव ने कहा कि फिलहाल राजनीतिक दल बनाने का मेरा कोई इरादा नहीं है।

2014 में राजनीतिक संकट था इसलिए मैंने नरेंद्र मोदी का समर्थन किया। रामदेव ने कहा कि मोदी जी ने मुझसे कहा था कि वो करप्शन के मुद्दे पर 200 फीसदी सहमत हैं और मैंने उन पर विश्वास किया।


मोदी जी का ये ट्रैक रिकॉर्ड रहा है कि वो जो कहते हैं, उसे करते भी हैं। अभी भी दो साल बाकी हैं। केंद्र की राजग सरकार पर रामदेव ने कहा कि कोई भी सरकार स्वदेशी बढ़ाने का काम नहीं कर रही है। सभी दल MNC'S के प्रभाव में हैं।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

मैं गरीबों के लिए लड़ रहा रहा हूं, जिसको जो करना है कर ले : PM मोदी

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज इलाहावाद के सराय-इनायत संत निरंकारी मैदान (अंदावा) में रैली को संबोधित करते हुये कहा कि यह धरती, वही धरती है जहां से उत्तर प्रदेश का भाग्य निर्धारित होने वाला है।

Image Source - hindustantimes

इलाहाबाद की धरती प्रधानमंत्रियों की धरती है, ये धरती लाल बहादुर शास्त्री की है। जिन्होंने 'जय जवान जय किसान' का नारा दिया था। झूठ का प्रचार करके जनता की आंखों में धूल नहीं झोंकी जा सकती है, यह भीड़ ये साबित कर रही है।

देश में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा, जहां कोर्ट राज्य सरकार के फैसले को रोक देता हो, उसे फटकार लगाता हो अखिलेश जी अगर आपका काम बोलता, तो इलाहाबाद कोर्ट को क्यों बोलना पड़ता। सत्ता हथियाने वाली पार्टी अब अपनी इज्जत बचाने के लिए चुनाव लड़ रही है, हम यूपी का भाग्य बदलने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

तीसरे चरण में भी चुनाव भाजपा के पक्ष में हुआ है। तीन चरण पूरे होने के बाद, अगर कोई सरकार बनाने के लिए आगे है, वो है भाजपा। भाजपा को 5 साल सेवा करने का मौका दीजिए, हर पैमाने पर स्थितियां बदल जाएंगी। यूपी अपराध, अत्याचार, भाई-भतीजावाद और शोषण में एक नंबर पर है।

शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, रोजगार के नाम पर यूपी सबसे आखिरी कतार में खड़ा है। एक 'यूपी बेहाल करने वाले' और एक 'यूपी बेहाल वाले' का गठबंधन हुआ है।2014 में कांग्रेस 9 से 12 सिलेंडर का मुद्दा लेकर चुनाव मैदान में थी।

जिस पार्टी की सोच 9 से 12 करने की है, वो आपका भला कैसे कर सकते हैं। मैंने निर्णय किया,5 करोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त में गैस कनेक्शन देंगे।ढाई साल में 1 करोड़ 80 लाख गरीब मांओं तक गैस कनेक्शन पहुंचा। मैंने लाल किले से समर्थ लोगों से प्रार्थना की, गैस की सब्सिडी छोड़ दें, सवा सौ करोड़ लोगों ने सब्सिडी छोड़ दी।

आजादी के बाद ये क्रांति का वातावरण पैदा हुआ है। एक परिवार का भला करने वाले लोग कभी प्रदेश का भला कर सकते हैं। मैंने 'स्वच्छ भारत मिशन' के तहत यह बीड़ा उठाया और 4 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनवाई।पीएम बनने के बाद 1800 गांव में बिजली नहीं थी, उनमे से 1500 गांव में यूपी में थे मैं तो बस एक ही मंत्र लेकर चला हूं, न जात-पात, न धर्म, 'सबका साथ सबका विकास'

मैंने स्टेंट का दाम 85 फीसदी कम करा दिया, अब गरीब आराम से अपना इलाज करवा सकते हैं। महंगी दवाईयों की वजह से गरीब इलाज नहीं करवा पा रहे थे, लेकिन मैंने 700 दवाईयों का दाम कम करा दिया। किसानों को सिचाई, बालकों को पढ़ाई, युवकों को कमाई और बुजुर्गों को दवाई देने का काम हम करेंगे।

पहले यूरिया समय पर नहीं मिलता था, लेकिन जब से मैने यूरिया का नीम कोटिग किया है, तब से यूरिया के लिए मारामारी खत्म हो गई। अब काला बाजारी खत्म हो गई और यूरिया किसानों को आराम से मिल रहा।

जिन लोगों को मैं परेशान कर रहा हूं, वो लोग तो हमसे गुस्सा होंगे, लेकिन मैं गरीबों के लड़ रहा रहा हूं, जिसको जो करना है कर ले।

जिन्होंने गरीबों को लूटा है, उससे पैसा लेना है। गरीबों का भला करना है। इसलिए आप भारी बहुमत से यूपी में भाजपा की सरकार बनाएं। भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ ये लड़ाई रुकने वाली नहीं है और मोदी थकने वाला नहीं है।

2014 से पहले पैसा जाने की बात होती थी, लेकिन अब कितना आया उसकी चर्चा होती है। यूपी में एक ऐसी सरकार है, जिसे सुशासन के बारे कुछ पता नहीं है। जो गरीबों का हक मार दे, ऐसी निक्कमी सरकार आपका भला कैसे कर सकती है। सपा के नेताओं की कृपा से यूपी में भू-माफिया की बीमारी चल रही है।

भाजपा की सरकार बनने के बाद एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन होगा। भाजपा की सरकार बनेगी तो जो पिछले कई सालों में नहीं हुआ है, वो काम यूपी में होगा। यूपी में बहन-बेटियों की इज्जत महफूज नहीं है, पुलिस वाले भी इनकी नहीं सुनते, क्योंकि थानों पर सपा के गुंडों का कब्जा होता है।


सपा के नेताओं की कृपा से यूपी में भू-माफिया की बीमारी चल रही है। भाजपा की सरकार बनने के बाद एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन होगा।

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज इलाहावाद के सराय-इनायत संत निरंकारी मैदान (अंदावा) में रैली को संबोधित करते हुये कहा कि यह धरती, वही धरती है जहां से उत्तर प्रदेश का भाग्य निर्धारित होने वाला है।

Image Source - hindustantimes

इलाहाबाद की धरती प्रधानमंत्रियों की धरती है, ये धरती लाल बहादुर शास्त्री की है। जिन्होंने 'जय जवान जय किसान' का नारा दिया था। झूठ का प्रचार करके जनता की आंखों में धूल नहीं झोंकी जा सकती है, यह भीड़ ये साबित कर रही है।

देश में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा, जहां कोर्ट राज्य सरकार के फैसले को रोक देता हो, उसे फटकार लगाता हो अखिलेश जी अगर आपका काम बोलता, तो इलाहाबाद कोर्ट को क्यों बोलना पड़ता। सत्ता हथियाने वाली पार्टी अब अपनी इज्जत बचाने के लिए चुनाव लड़ रही है, हम यूपी का भाग्य बदलने के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

तीसरे चरण में भी चुनाव भाजपा के पक्ष में हुआ है। तीन चरण पूरे होने के बाद, अगर कोई सरकार बनाने के लिए आगे है, वो है भाजपा। भाजपा को 5 साल सेवा करने का मौका दीजिए, हर पैमाने पर स्थितियां बदल जाएंगी। यूपी अपराध, अत्याचार, भाई-भतीजावाद और शोषण में एक नंबर पर है।

शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, रोजगार के नाम पर यूपी सबसे आखिरी कतार में खड़ा है। एक 'यूपी बेहाल करने वाले' और एक 'यूपी बेहाल वाले' का गठबंधन हुआ है।2014 में कांग्रेस 9 से 12 सिलेंडर का मुद्दा लेकर चुनाव मैदान में थी।

जिस पार्टी की सोच 9 से 12 करने की है, वो आपका भला कैसे कर सकते हैं। मैंने निर्णय किया,5 करोड़ गरीब परिवारों को मुफ्त में गैस कनेक्शन देंगे।ढाई साल में 1 करोड़ 80 लाख गरीब मांओं तक गैस कनेक्शन पहुंचा। मैंने लाल किले से समर्थ लोगों से प्रार्थना की, गैस की सब्सिडी छोड़ दें, सवा सौ करोड़ लोगों ने सब्सिडी छोड़ दी।

आजादी के बाद ये क्रांति का वातावरण पैदा हुआ है। एक परिवार का भला करने वाले लोग कभी प्रदेश का भला कर सकते हैं। मैंने 'स्वच्छ भारत मिशन' के तहत यह बीड़ा उठाया और 4 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनवाई।पीएम बनने के बाद 1800 गांव में बिजली नहीं थी, उनमे से 1500 गांव में यूपी में थे मैं तो बस एक ही मंत्र लेकर चला हूं, न जात-पात, न धर्म, 'सबका साथ सबका विकास'

मैंने स्टेंट का दाम 85 फीसदी कम करा दिया, अब गरीब आराम से अपना इलाज करवा सकते हैं। महंगी दवाईयों की वजह से गरीब इलाज नहीं करवा पा रहे थे, लेकिन मैंने 700 दवाईयों का दाम कम करा दिया। किसानों को सिचाई, बालकों को पढ़ाई, युवकों को कमाई और बुजुर्गों को दवाई देने का काम हम करेंगे।

पहले यूरिया समय पर नहीं मिलता था, लेकिन जब से मैने यूरिया का नीम कोटिग किया है, तब से यूरिया के लिए मारामारी खत्म हो गई। अब काला बाजारी खत्म हो गई और यूरिया किसानों को आराम से मिल रहा।

जिन लोगों को मैं परेशान कर रहा हूं, वो लोग तो हमसे गुस्सा होंगे, लेकिन मैं गरीबों के लड़ रहा रहा हूं, जिसको जो करना है कर ले।

जिन्होंने गरीबों को लूटा है, उससे पैसा लेना है। गरीबों का भला करना है। इसलिए आप भारी बहुमत से यूपी में भाजपा की सरकार बनाएं। भ्रष्टाचार और कालेधन के खिलाफ ये लड़ाई रुकने वाली नहीं है और मोदी थकने वाला नहीं है।

2014 से पहले पैसा जाने की बात होती थी, लेकिन अब कितना आया उसकी चर्चा होती है। यूपी में एक ऐसी सरकार है, जिसे सुशासन के बारे कुछ पता नहीं है। जो गरीबों का हक मार दे, ऐसी निक्कमी सरकार आपका भला कैसे कर सकती है। सपा के नेताओं की कृपा से यूपी में भू-माफिया की बीमारी चल रही है।

भाजपा की सरकार बनने के बाद एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन होगा। भाजपा की सरकार बनेगी तो जो पिछले कई सालों में नहीं हुआ है, वो काम यूपी में होगा। यूपी में बहन-बेटियों की इज्जत महफूज नहीं है, पुलिस वाले भी इनकी नहीं सुनते, क्योंकि थानों पर सपा के गुंडों का कब्जा होता है।


सपा के नेताओं की कृपा से यूपी में भू-माफिया की बीमारी चल रही है। भाजपा की सरकार बनने के बाद एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन होगा।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने लिया संन्यास!

नई दिल्ली : पाकिस्तान के मशहूर क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने रविवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा करके अपने फैंस को चौंका दिया है। संन्यास के बाद उनका 21 साल का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का शानदार और कभी-कभी विवादास्पद कैरियर खत्म हो गया।

Image Source - imgci

आपको बता दें कि अफरीदी ने कुछ दिन पहले ही संकेत दे दिए थे कि उनका अंतरराष्ट्रीय करियर लगभग खत्म हो गया है। उन्होंने कहा था कि वह अब फ्रीलांस क्रिकेटर बनना चाहते हैं और दुनिया भर में लीग में खेलने की उनकी इच्छा है।

36 वर्षीय क्रिकेट स्टार शाहिद अफरीदी पहले ही टेस्ट और वनडे क्रिकेट को अलविदा कह चुके थे। हालांकि 2016 में भारत में हुई टी-20 वर्ल्ड चैंपियनशिप में अफरीदी पाकिस्तान टी-20 टीम के कप्तान थे। टूर्नामेंट के बाद शाहिद अफरीदी कप्तान पद से हट गए, लेकिन एक खिलाड़ी के रूप में खेल के छोटे प्रारूप में अपना कैरियर को विराम नहीं दी।

शाहिद अफरीदी क्रिकेट फैंस के दिलों में तब से बस गए थे जब 1996 में श्रीलंका के खिलाफ खेलते हुए उन्होंने सिर्फ 37 गेंदों पर शतक जड़ा था। यह उनका दूसरा ही मैच था। उनके इस रिकॉर्ड को 17 साल तक कोई नहीं ब्रेक कर पाया था। अपने करियर के अगले पायदान में अफरीदी बॉलिंग ऑलराउंडर के रूप में स्थापित हो गए।

टी-20 क्रिकेट में पाकिस्तान की शुरुआती सफलता का दारोमदार अफरीदी पर ही रहा। वर्ष  2009 में पाक की जीत में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रही।

अफरीदी ने अपने इंटरनेशनल क्रिकेट करियर में 27 टेस्ट मैच खेले। इन मैचों में उन्होंने 1176 रन बनाये। उनका उच्चतम स्कोर 156 रहा। उन्होंने 48 विकेट भी चटकाये।

एक दिवसीय मैच की बात करें तो अफरीदी ने कुल 398 मैच खेले। इनमें उन्होंने 8,064 रन बनाये। वनडे में अफरीदी का उच्चतम स्कोर 124 रनों का है। लेग स्पिन गेंदबाजी से अफरीदी ने कुल 395 विकेट चटकाये।

टी-20 में शाहिद अफरीदी ने कुल 98 इंटरनेशनल मैच खेले। इनमें उन्होंने 1405 रन बनाये। उन्होंने कुल 97 विकेट हासिल किये।

नई दिल्ली : पाकिस्तान के मशहूर क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने रविवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा करके अपने फैंस को चौंका दिया है। संन्यास के बाद उनका 21 साल का अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का शानदार और कभी-कभी विवादास्पद कैरियर खत्म हो गया।

Image Source - imgci

आपको बता दें कि अफरीदी ने कुछ दिन पहले ही संकेत दे दिए थे कि उनका अंतरराष्ट्रीय करियर लगभग खत्म हो गया है। उन्होंने कहा था कि वह अब फ्रीलांस क्रिकेटर बनना चाहते हैं और दुनिया भर में लीग में खेलने की उनकी इच्छा है।

36 वर्षीय क्रिकेट स्टार शाहिद अफरीदी पहले ही टेस्ट और वनडे क्रिकेट को अलविदा कह चुके थे। हालांकि 2016 में भारत में हुई टी-20 वर्ल्ड चैंपियनशिप में अफरीदी पाकिस्तान टी-20 टीम के कप्तान थे। टूर्नामेंट के बाद शाहिद अफरीदी कप्तान पद से हट गए, लेकिन एक खिलाड़ी के रूप में खेल के छोटे प्रारूप में अपना कैरियर को विराम नहीं दी।

शाहिद अफरीदी क्रिकेट फैंस के दिलों में तब से बस गए थे जब 1996 में श्रीलंका के खिलाफ खेलते हुए उन्होंने सिर्फ 37 गेंदों पर शतक जड़ा था। यह उनका दूसरा ही मैच था। उनके इस रिकॉर्ड को 17 साल तक कोई नहीं ब्रेक कर पाया था। अपने करियर के अगले पायदान में अफरीदी बॉलिंग ऑलराउंडर के रूप में स्थापित हो गए।

टी-20 क्रिकेट में पाकिस्तान की शुरुआती सफलता का दारोमदार अफरीदी पर ही रहा। वर्ष  2009 में पाक की जीत में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण रही।

अफरीदी ने अपने इंटरनेशनल क्रिकेट करियर में 27 टेस्ट मैच खेले। इन मैचों में उन्होंने 1176 रन बनाये। उनका उच्चतम स्कोर 156 रहा। उन्होंने 48 विकेट भी चटकाये।

एक दिवसीय मैच की बात करें तो अफरीदी ने कुल 398 मैच खेले। इनमें उन्होंने 8,064 रन बनाये। वनडे में अफरीदी का उच्चतम स्कोर 124 रनों का है। लेग स्पिन गेंदबाजी से अफरीदी ने कुल 395 विकेट चटकाये।

टी-20 में शाहिद अफरीदी ने कुल 98 इंटरनेशनल मैच खेले। इनमें उन्होंने 1405 रन बनाये। उन्होंने कुल 97 विकेट हासिल किये।
हमारे Twitter & Facebook पेज को फॉलो करे

Source : rajsthan patrika, samaya live, ndtv, news18 hindi, navbharat times, jagran, nai dunia, live hindustan, jansatta

Read This :

loading...

© 2011-2014 Hamari Khabar. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.